गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की चुदाई


प्रेषक : आर्यन …
हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आर्यन है और में एक प्राईवेट कंपनी में नौकरी करता हूँ और में देहरादून का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 21 साल है। में दिखने में बहुत अच्छा हूँ मेरा रंग गोरा है और में हर दिन जिम भी जाता हूँ। दोस्तों मुझे चोदकाम डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है और में जब भी फ्री होता हूँ तो इसकी कहानियाँ पढ़ने लगता हूँ। दोस्तों आज में आप सभी के सामने अपनी एक सच्ची घटना लेकर आया हूँ।
दोस्तों मेरी गर्लफ्रेंड का नाम पूजा है और वो हरिद्वार की रहने वाली है और मेरे साथ मेरी कम्पनी में नौकरी करती है और हम दोनों का चक्कर पिछले 6 महीने से चल रहा है। दोस्तों वो एक सामान्य परिवार से है, उसका रंग एकदम दूध जैसा सफेद है और उसकी गांड एकदम मस्त है, लेकिन उसके फिगर का तो क्या कहना? वो एकदम अच्छे आकार के है जिसको देखकर में शुरू से ही उसकी तरफ आकर्षित हुआ उसके वो हॉट, सेक्सी बूब्स उसके कपड़ो से हमेशा बाहर आने को तैयार रहते और में उन्हें घूर घूरकर देखता रहता और मन ही मन उसकी चुदाई के सपने देखता रहता था। दोस्तों उसके फिगर का साईज 30-28-32 है और अब तो आप समझ ही गये होंगे कि वो क्या चीज़ है और दिखने में कितनी और सेक्सी है? हम दोनों जब भी मिलते थे तो किसिंग ही करते थे और उससे ज़्यादा उसने मुझे कभी भी कुछ नहीं करने दिया, लेकिन में उसको हमेशा चोदने’ के बारे में सोचता रहता था, लेकिन मुझे कोई अच्छा मौका नहीं मिल रहा था जिसका फायदा उठाकर में अपने मन की सभी इच्छाओं को उसके साथ पूरा कर लूँ, लेकिन एक दिन उस भगवान ने मेरे मन की बात सुन ली और दिन उसने मुझे अपने रूम पर बुलाया, उस दिन उसका जन्म दिन था इसलिए में एक अच्छा सा गिफ्ट लेकर उसके रूम पर पहुँच गया और मैंने वहां पर पहुंच कर देखा कि वो उस समय अपने रूम पर बिल्कुल अकेली थी और मुझे नहीं पता था कि उसकी फ्रेंड रजनी भी उस समय उसके रूम पर आई हुई है और वो उस समय बाथरूम में नहा रही थी।

Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex
फिर मैंने जाते ही उसे जन्मदिन की बधाई दी और अब में उसको चूमने लगा। दोस्तों वैसे उसकी फ्रेंड भी हम दोनों के चक्कर के बारे में सब कुछ जानती थी, अब मैंने पूजा से बोला कि तुम्हे तुम्हारा गिफ्ट मिल गया और अब तुम मुझे भी मेरा गिफ्ट दे दो, वो समझ गई और बोली कि वो समय आने पर में तुम्हे जरुर दे दूँगी। फिर इतने में उसकी फ्रेंड भी नहाकर बाहर आ गई। तभी एक जोरदार तूफान आया और अचानक बहुत ज़ोर से बारिश होने लगी और बिजली कड़कने लगी जिसकी आवाज सुनकर वो एकदम मुझसे लिपट गई और कुछ देर बाद उसने मुझे छोड़ दिया, मुझसे अलग हुई और फिर कुछ देर बाद मैंने उनके साथ खाना खाया और कुछ देर इधर उधर की बातें करके में उनको बाय बोलकर अपने घर पर जाने लगा तो पूजा ने मुझे जाने से मना कर दिया। उसके बाद वो फ्रेश होने चली गई तो में रजनी के साथ बैठकर इधर उधर की बातें करने लगा वो भी बहुत हॉट थी और बहुत सुंदर भी थी। उसने उस समय पंजाबी सलवार कमीज़ पहन रखा था जिसमे वो आज कुछ ज्यादा ही सुंदर लग रही थी। अब मैंने उससे कुछ देर बाद बातों ही बातों में पूछा कि क्या आपका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है? तो उसने थोड़ा सा शरमाकर अपना सर हिलाकर मुझसे मना कर दिया और उसकी उम्र भी पूजा जितनी थी और इतने में पूजा भी नहाकर बाहर आ गई। दोस्तों पूजा तो क्या मस्त कयामत लग रही थी, उसने पटियाला सूट पहन रखा था और मेरी नजर तो अब उसके जिस्म से एक पल भी हटने को तैयार नहीं थी। में उसको घूर घूरकर देखे जा रहा था। तभी उसने मुझसे मुस्कुराते हुए कहा कि क्यों क्या आज मुझे पूरी तरह से खा ही जाओगे?
फिर मैंने अपनी नजर को उसके ऊपर से हटाकर मुस्कुराने लगा और वो अब मेरा मतलब बिना कहे ही समझ चुकी थी। दोस्तों उस रूम में एक फोल्डिंग बेड था और एक दूसरा हमेशा बिछा रहने वाला बेड था। अब हम दोनों पूजा और में एक बेड पर एक साथ एक दूसरे की बाहों में लेटे हुए टीवी देख रहे थे और रजनी उस फोल्डिंग वाले बेड पर सो रही थी। फिर कुछ देर बाद मैंने पूजा के कान में कहा कि आज मौसम भी बहुत मस्त हो रहा है और आज तुम्हारा जन्मदिन भी है। तुम कहो तो में आज तुम्हे जन्नत की सैर करवा दूँ? तो उसने झट से मेरी बात के लिए हाँ कर दिया और फिर बोली कि रजनी को सो जाने दो उसके बाद तुम्हे जो करना है कर लेना और अब हम दोनों बहुत बेसब्री से रजनी के सोने का इंतजार करने लगे, लेकिन वो शायद हमारे मन की बात को समझकर बहुत जल्दी दूसरी तरफ अपना मुहं करके सो गई थी। फिर सबसे पहले मैंने पूजा के होंठो को चूमा और अपनी जीभ को उसके मुहं में अंदर तक डालकर बहुत देर तक बहुत मज़े लिए और फिर आहिस्ता आहिस्ता उसके गाल पर, गर्दन पर, उसकी छाती पर किस करने लगा और वो भी अब मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी।
फिर मैंने उसके बूब्स के करीब पहुंचकर उसके सेक्सी बूब्स को सहलाया और मसलने लगा तो वो अब धीरे धीरे गरम होने लगी थी और सिसकियाँ लेने लगी थी। फिर मैंने उसका वो जोश देखकर अपने कपड़े उतार दिए और जब में अपने कपड़े उतार रहा था तो रजनी भी अचानक से हमारी तरफ पलटकर मुस्कुराते हुए मुझे देख रही थी, अब में उसके सामने बिल्कुल नंगा हो गया और अब मेरा वो 7.5 इंच का लंड देखकर वो दोनों अचानक से डर गई और फिर पूजा मुझसे डरते हुए बोली कि तुम्हारा यह तो बहुत मोटा, लम्बा है और यह तो आज मेरी जान ही निकाल देगा, रहने दो में तो कुछ भी नहीं करूंगी। फिर मैंने उसे अब बहुत प्यार से बहुत देर तक समझाया और मैंने उससे कहा कि अगर तुम्हे थोड़ा भी दर्द होतो तो तुम मुझे मना कर देना, में तुम्हे वहीं पर वैसे ही छोड़ दूंगा, लेकिन प्लीज एक बार मुझे आगे बढ़ने का मौका तो दो और थोड़ा बहुत दर्द तो सबको होता है, लेकिन उसके बाद सबको बहुत मज़ा भी तो आता है और अब वो मेरे बहुत समझाने पर मान गई। अब में उसको एक बार फिर से गरम करने लग गया और उसके बूब्स को दबाने लगा। वो अब ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भरने लगी और रजनी भी हमे यह सब करते हुए देखकर दूर से ही गरम होकर जोश में आकर सिसकियाँ लेने लगी और अब मैंने पूजा के बचे हुए सारे कपड़े उतार दिए और उसे पूरी नंगी कर दिया और अब उसकी वो रसीली, कामुक चूत को देखकर मेरे मुहं में अचानक से पानी आ गया। तभी कुछ देर बाद हमने अपने साथ में रजनी को भी अपने बेड पर बुला लिया और उसके कपड़े भी पूरे उतार दिए और उसको भी पूरी नंगी कर दिया।
फिर मैंने देखा कि उन दोनों की चूत पानी एक एक बार छोड़ चुकी थी और मैंने सबसे पहले पूजा की जाँघो के बीच में जाकर उसकी रसीली चूत को चाट चाटकर बहुत अच्छी तरह से साफ कर दिया पूजा ने मेरे सर को बहुत दम लगाकर अपनी चूत में दबाया और अपने चूतड़ को उठा उठाकर चूत को मुझसे साफ करवाया और इस बीच पूजा का एक बार फिर से पानी निकल गया था और वो झड़कर बिल्कुल निढाल होकर चुपचाप पड़ी रही और में उसकी चूत को चूसता, चाटता रहा। फिर मैंने उसे बहुत अच्छी तरह साफ कर दिया और मैंने वो सारा रस पी लिया। अब मैंने रजनी की चूत को भी चाटा और उसने भी कुछ देर के बाद पानी की धार को मेरे मुहं पर छोड़ दिया मैंने उसकी चूत को भी चाटकर साफ कर दिया। अब मैंने उन दोनों को मेरा लंड चूसने के लिए बोला तो पूजा मना करने लगी, लेकिन रजनी ने झट से मेरे लंड को अपने मुहं में ले लिया, क्योंकि मेरा लंड बहुत मोटा था और अब वो लोलीपोप की तरह लंड को बहुत मज़े लेकर चूसने लगी, मुझे तो मानो जैसे जन्नत मिल गई हो, लेकिन थोड़ी देर चूसने के बाद मेरा वीर्य निकल गया और अब उसने सारा का सारा पी लिया।
अब मैंने पूजा के दोनों पैरों के बीच में आकर उसके पैरों को अपने कंधे पर रख लिया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया जिससे उसकी चूत ऊपर की तरफ उठ गई और फिर में अपना 7.5 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। वो बिल्कुल बैचेन सी हो गई और बोलने लगी कि प्लीज जानू अब चोद दो मुझे जानू अब मुझे और मत तरसाओ, में अब और नहीं रह सकती, आईईइ प्लीज थोड़ा जल्दी से मेरी चूत को ठंडा कर दो उह्ह्हह्ह। तो मैंने अपना लंड उसकी चूत पर लगाकर एक ज़ोर का धक्का मारा तो लंड का सुपाड़ा चूत के अंदर फिसलकर चला गया और पूजा ज़ोर से चीखने, चिल्लाने लगी। यह सब देखकर रजनी बिल्कुल पागल हो रही थी और वो भी अब मुझसे चोद दो मुझे भी प्लीज अब मुझे भी चोद दो बोले जा रही थी। फिर मैंने थोड़ी देर पूजा को किस करते हुए उसे बहुत अच्छा महसूस करवाया और फिर वो अपनी गांड हिलाकर मुझसे चोदने के लिए बोलने लगी और फिर मैंने उसे 6-7 धक्को में अपना पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया। वो बहुत ज़ोर ज़ोर से रोने लगी, शायद उसकी सील टूट गई थी इसलिए वो इतना चिल्ला रही थी। फिर मैंने थोड़ी देर रुककर एक बार फिर से धक्के मारने चालू किए, लेकिन में इस बार बिल्कुल भी नहीं रुका और मैंने 15 मिनट जमकर पूजा की चूत को चोदा, उसके बाद मेरा वीर्य निकल गया और मैंने अपने वीर्य से उसकी चूत को भर दिया। वो भी पहले दो बार झड़ चुकी थी और तीसरी बार मेरे साथ झड़ गई और जब मेरा लंड सिकुड़कर उसकी चूत से बाहर आया तो मैंने अपने लंड पर बहुत सारा खून देखा जो उसकी चूत का था। शायद अब उसकी चूत फट चुकी थी और चूत से मेरा और उसका गरम गरम लावा बाहर आ रहा था और थोड़ी सा खून भी बाहर निकल रहा था।
अब पूजा आराम से एकदम सीधी होकर लेट गई, क्योंकि वो अपनी चूत में बहुत दर्द महसूस कर रही थी और इस बात का फायदा उठाकर रजनी ने मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसा और खड़ा कर दिया। फिर उसके बाद मैंने रजनी को भी बहुत जमकर चोदा, हमारी यह चुदाई कम से भी कम एक घंटा लगातार चली थी जिसमे 25 मिनट पूजा के साथ और 35 मिनट रजनी के साथ सेक्स किया क्योंकि मेरा वीर्य दो बार पहले ही निकल चुका था इसलिए मुझे रजनी को चोदते समय झड़ने में बहुत समय लग गया और अब जब में रजनी की चूत में झड़ा तो वो भी मेरी इस चुदाई से पूरी तरह संतुष्ट होकर बहुत खुश हो गई और अब हम तीनों एक साथ एक ही बेड पर बिल्कुल नंगे होकर एक ही रज़ाई में सो गये। में उन दोनों के बीच में था और वो दोनों मेरे आस पास लेटी हुई थी। फिर में एक एक करके बारी बारी से उनके बूब्स को मसलता, दबाता, चूसता रहा और मैंने उस रात उन दोनों को करीब दो दो बार चोदा और फिर हम सो गए। दोस्तों वो दोनों अब भी मुझसे कई बार एक साथ चुद चुकी है और मैंने उनकी गरम चूत को चोदकर ठंडा किया है ।।
धन्यवाद …Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

सोनाली की जिस्म की आग


सोनाली की जिस्म की आग



हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम साजिद है। दोस्तों दोस्ती हमें प्यार का मौका देती है और प्यार हमे इन्सान के रूह और जिस्म तक पहुँचने का मौका देती है, लेकिन कैसे कोई अजनबी हमारा दोस्त बन जाता है और फिर हमारे बीच वो सब हो जाता है, जो किसी के लिए सपना है तो किसी के लिए हक़ीक़त कुछ ऐसी ही हक़ीक़त मेरे साथ हुई है जो सुनने के बाद शायद आप भी सोचने लगे कि काश ऐसा होता। दोस्तों ये कहानी है मेरी और सोनाली की। मैंने नया नया जॉब शुरू किया था और कंपनी मे नया था और सब मुझे जूनियर के तरह व्यहवार करते थे, लेकिन मैंने अपने व्यवहार की वजह से सबको खुश रखा है और जैसे जैसे वक़्त निकला वेसे दोस्त बने, लेकिन दुश्मन भी बनने लगे और इसका कारण था मेरी और सोनाली के बीच की केमिस्ट्री और ये तब शुरू हुआ जब पहले दिन एक कॉन्फ्रेंस मे मुझे फर्स्ट प्राईज़ मिला। में बहुत खुश था और सोनाली मुझसे काफी प्रभावित थी।

उसके बाद बस मुझे एक अच्छा दोस्त मिल गया, जिस सोनाली को में 20-25 दिनों से देखता रहता था, आज वो मेरे पास बैठती है और कंपनी के लोग मुझसे जलते है और अब इसमें में क्या करूँ? सोनाली अब मेरी बहुत अच्छी दोस्त बन गयी थी, हम साथ मे लंच करते थे और साथ मे एक ही ऑटो से वापस अपने घर भी जाते थे, मेरे ऑफिस के ही कुछ लड़के अपनी बुरी नजर उस पर लगाये बैठे थे और जिसका आभास मुझे पहले हो चुका था, लेकिन में सामान्य लड़का हूँ, इसलिये सोचा कि जाने दो और जिस दिन ये बात सामने आ जायेगी तो उस दिन उन्हें उनकी औकात बता दूँगा।

फिर वो दिन आ ही गया, कंपनी की तरफ से सिर्फ़ तीन स्टाफ के लोगों को सिंगापुर भेजा जा रहा था जिनमें में, सोनाली और मेरा दोस्त अक्षय था। दोस्तों हमारे बीच अब दोस्ती से ज़्यादा कुछ एहसास दिल मे आ चुका था, लेकिन उसने कभी ऐसा महसूस नहीं होने दिया और न ही मैंने। सोनाली एक लंबी गोरी और मस्त लड़की थी, उसका फिगर 32-30-36 था और उसकी गांड बहुत बाहर निकली हुई थी, जो उसे एक मस्त आईटम बनाती थी, उस दिन शॉपिंग मोल कुछ खाली था, क्योंकी उस दिन बहुत तेज़ गर्मी थी, जब हम मोल गये तो वो गर्ल्स सेक्शन मे चली गयी और में उसे इज़्ज़त देते हुए वहां से निकल आया, लेकिन ना जाने उसके दिमाग़ मे क्या आया और वो मेरे लिए एकदम अलग था।

उसने मुझे बुलाया और कहा कि साजिद अगर में कप शेप ब्रा पहनूं तो में कैसी लगूंगी, ये सुनते ही में तो हिल गया और मैंने कहा कि क्या तुम पागल हो गयी हो, कोई ये सवाल एक लड़के से पूछता है क्या और जानते हो दोस्तों उसने नज़रे घुमाकर इतराते हुए कहा कि अब पति से क्या छुपाना तो में हैरान रह गया और अंदर ही अंदर मुस्कुराने लगा पति? कौन में? तुम पागल हो क्या? फिर मैंने भी उसके बाद उसके मज़े लेने शुरू कर दिए और हंसने लगा, उसने शायद ज़्यादा ध्यान नहीं दिया और हाथ मे जो उसके ब्रा थी तो उसने वो मुझ पर ही फेंक दिया और हंसने लगी। फिर मैंने भी उस ब्रा को अपने होठों से चूम लिया और वो अपनी आँखें फाड़कर मुझे देख रही थी। फिर मौके को देखते ही हमने एक दूसरे को अपनी बाहों मे भर लिया और हम एक दूसरे को किस करने लगे। फिर मैंने उसके बालों मे हाथ फेरा और उसके माथे पर किस देते हुए उसे कहा कि सोनाली आई लव यू और उसने मुझे एक थप्पड़ मारा और कहा नो आई नोट लव यू, में शॉक्ड रह गया तो उसने मुझे हँसते हुए कहा अभी जवाब नहीं दूँगी अच्छा मौका तो आने दो और उसने मुझे आँख मार दी। उसके बाद मोल मे भीड़ बड़ने लगी तो हम वहां से निकल आए और सिंगापुर जाने की तैयारी करने लगे।

अगले दिन हम फ्लाइट से सिंगापुर पहुँचे और वहां हमारे लिए 3 रूम बुक थे, लेकिन मेरा और अक्षय का रूम एक अपार्टमेंट मे था और उसका दो अपार्टमेंट के बाद। दोस्तों हमें वहा तीन दिन रुकना था, जब हमे ये पता चला तो मेरे दिमाग़ मे तब तक कोई सेक्स का ख्याल नहीं था, काम मे ही इतना बिज़ी था, लेकिन उसके चेहरा उदास पड़ गया। फिर मैंने उसे बाहों मे भरते हुए पूछा कि तुम क्यों उदास हो गयी तो उसने कहा कि वो मेरे साथ रुकना चाहती थी तो मैंने उसे समझाया कि सोनाली आपका अपार्टमेंट गर्ल्स का है और हमारा लड़को का तो शायद वो समझ गयी। उसके बाद हम अपने अपने रूम मे चले गये। फिर मैंने उसके बाद थोड़ा सोने का फ़ैसला किया, मेरी आँख लगी ही थी कि मेरे फोन पर उसका मेसेज आया कि आई एम अलोन इन मी अपार्टमेंट, जस्ट वेटिंग फॉर यू डार्लिंग।

ये पढ़ते ही मेरी नींद गायब हो गई, गला सूखने लगा और एक हलचल सी होने लगी दिल मे और हज़ार सवाल थे जाऊं या नहीं जाऊं? वो गर्ल्स का है? पकड़ा जाऊंगा तो नौकरी जायेगी? इससे आख़िर हो क्या जाता है? लेकिन दोस्तों अब आप ही सोचो कि अगर आपके फोन पर ऐसा मेसेज आता तो आप क्या करते, तो मैंने भी वही किया और में फ़ॉर्मल्स में ही पीछे से उसके अपार्टमेंट मे चला गया और उस वक़्त शायद सभी लंच के लिए गये हुए थे तो उसने मुझे अपना रूम नंबर बताया और में दौड़ते हुए उसके रूम तक पहुँच गया। मुझे किसी ने देखा नहीं जैसे ही में वहा पहुँचा तो उसने तुरंत गेट खोल दिया और मुझे अंदर करके गेट बंद कर दिया। मैंने घबराते हुए उससे पूछा कि ये क्या पागलपन है? और वो अपने बालों को खोलते हुए कहने लगी कि पागलपन तो अब दिखेगा तुम्हे साजिद। दोस्तों में नहीं बता सकता कि उस वक़्त मुझे क्या महसूस हुआ।

बस पेंट के अंदर मेरा लंड सोनाली को थैंक्स बोल रहा था, वो एक टी-शर्ट और स्कर्ट पहने हुई थी और मेरी तरफ बढ़ रही थी और में तो बस उसका दिल ही दिल में इंतज़ार कर रहा था, जैसे ही वो मेरे पास आई तो उसने मेरी आँखों पर हाथ रख दिया तो में ज़ोर ज़ोर से साँसें ले रहा था और उसने मेरे कान में धीरे से कहा कि पागल में बोर हो रही थी, इसलिये तुम्हे बुलाया है और मेरे कान पर दाँत से काटकर हंसने लगी और मुझसे दूर भागकर मेरा मज़ाक उड़ा रही थी तो मैंने कहा कि अच्छा तो ये बात थी और में तो पता नहीं क्या सोच रहा था।

सोनाली : अच्छा? ज़रा हमे भी तो बताइये जनाब आप क्या सोच रहे थे?

साजिद : अरे आप रहने भी दीजिये, जानोगे तो तुम्हारी दिमागी हालत खराब हो जायेगी।

सोनाली : नहीं, अब तुम मुझे बताओगे नहीं तो में सबको बता दूँगी कि ये मेरे साथ ग़लत करने आया था।

फिर मैंने कहा कि जाओ नहीं बताता और तुमने किसी को ऐसा कहा तो में सबको तुम्हारा मेसेज दिखा दूँगा और इस पर उसने एक मासूम सा चेहरा बनाया और कहने लगी कि ठीक है मत बताओ और उसकी मासूमियत को देखकर मैंने उसे बाहों मे ले लिया और उससे कहा कि कुछ भी नहीं मेरी जान मुझे लगा कि तुम शायद मुझे।

सोनाली : मुझे क्या?

साजिद : मुझे यहा प्यार करने के लिये बुलाया है।

(TBC)….



Comments are closed.






आंटी और उनकी बेटी की चुदाई-1


मेरा नाम देवांग है, मैं 27 साल का कुंवारा लड़का हूँ।

जब मैं 18 साल का था, मेरे पिताजी ट्रांसपोर्ट में काम करते थे। उनकी आमदनी बहुत कम थी। तब हमारा खुद का घर भी नहीं था, हम किराये के मकान में रहते थे।

वहाँ पर हमारे पड़ोस में एक अंकल-आंटी रहते थे जो मकान मालिक के चचेरे भाई थे। उनकी एक लड़की थी, क्या बताऊँ आपको, वो इतनी सेक्सी थी कि देखते ही लंड खड़ा हो जाये। आंटी भी जबरदस्त थी। हमारे उनके सम्बन्ध बहुत ही अच्छे थे। वो हमारे घर हर रोज आया करती थी और माँ के साथ बैठ कर गप्पें लगाती थी। वो जब भी आती थी तो मैं उनके इर्द-गिर्द ही रहता था क्योंकि मैं खेल खेल में मस्ती में ही उनके बोबे दबा लिया करता था जो बहुत ही नर्म थे। Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

एक दिन की बात है, मेरे घर पर कोई नहीं था। मेरी माँ और पिताजी भाई के साथ किसी रिश्तेदार की शादी में गए थे। माँ आंटी को कहकर गई थी कि मेरा खाना बनाकर घर भिजवा दें।

दोपहर को एक बजे मैं क्लास से घर पंहुचा ही था कि आंटी खाना लेकर आ गई। वो लाल साड़ी पहने हुए थी और सफ़ेद ब्लाऊज़। ब्रा का रंग कला था जो सफ़ेद ब्लाऊज़ में से साफ़ दिख रही थी।

मैं रोज की तरह मस्ती में उनके बोबे दबाने लगा।

वो बोली- तुम खाना खा लो !

मैंने कहा- आप प्यार से खिलाओ !

वो मान गई और प्लेट में खाना निकाल कर मेरे सामने बैठ गई। तभी वो बोली- गर्मी ज्यादा है, पंखा चला दो !

मैंने खड़े होकर पंखा चला दिया और उनके सामने बैठ गया। तभी उनका आँचल पंखे की हवा से उड़ा और उनके दोनों चूचियों के बीच की खाई मुझे साफ दिखने लगी। मेरा लंड खडा होने लगा। वो मुझे खिलाती गई और मेरी नजर उनके वक्ष पर टिक गई।अचानक उनकी नजर मुझ पर पड़ी। वो समझ गई कि मैं क्या देख रहा था पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। मेरा लंड पूरा तन गया। अचानक उनकी नजर मेरी पैंट पर पड़ी, वो हंसने लगी।

मैंने पूछा- क्या हुआ?

तो उन्होंने कुछ बताया नहीं और मेरे लिए पानी लेने चली गई। वो जब पानी लेकर वापस आई तो मैंने पूछा- आप क्यों हंस रही थी?

तो वो बोली- तेरा लंड मेरे बोबे देखकर ही तन गया !

मैं समझ गया कि आंटी को मस्ती करनी है। मैंने आंटी से कहा- क्या मैं आपके बोबे पूरे देख सकता हूँ?

तो वो झट से मान गई और साड़ी उतार दी। मुझसे कहा- बाकी ब्लाऊज़ और ब्रा तू निकाल ले।मैं झट से उनके बोबे दबाने लगा- अआह ………. क्या मुलायम बोबे थे !

मैं तो उनके बोबे जोर-जोर से मसलने लगा। वो भी आहें भरने लगी। फिर मैंने उनका ब्लाऊज़ निकाला। वह क्या लग रही थी काली ब्रा में !

मैंने ब्रा के साथ ही उनके बोबे फिर से दबाना शुरु कर दिया।

वो आह ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ईईईईए ऊऊऊऊ …..जैसी आवाजें निकालने लगी। 5 मिनट के बाद मैंने ब्रा भी निकाल दी और देखा तो वाह ! क्या बोबे थे ! जैसे दूध की डेयरी !

मैं तो प्यासी बिल्ली की तरह उनके बोबे पर दूध पीने टूट पड़ा। मेरा लण्ड काबू के बाहर हो गया था।

अचानक आंटी बोली- बस ! अब मेरी बारी !

मैं समझ नहीं पाया। वो उठी और मेरी पैंट की जिप खोल दी, फिर पैंट ही निकाल दी, मेरा अंडरवियर भी निकाल दिया और मेरा लण्ड देखकर बोली- वाह, क्या लण्ड है ! कम से कम सात इंच का होगा ! और उसे पकड़ कर हिलाने लगी। मुझे अच्छा लगने लगा। अचानक उन्होंने मेरा लण्ड मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगी।

मुझे तो बड़ा मज़ा आ रहा था। दस मिनट तक वो मेरे लण्ड को चूसती ही रही। अचानक मुझे लगा कि मैं छोड़ने वाला हूँ तो मैंने आंटी को कहा- छुट रहा है !

वो बोली- छोड़ दे मेरे मुँह में !

और मैं झड़ गया।

वो बोली- क्या मस्त स्वाद है तेरे वीर्य का !

मेरा लण्ड ठंडा पड़ गया पर वो बहुत ही गरम हो चुकी थी। वो बोली- चल एक काम कर ! आज मैं तेरा कुंवारापन दूर करती हूँ।

मैंने पूछा- कैसे ?

तो बोली- तू जानता है कि सुहागरात में क्या होता है ?

मैंने कहा- नहीं !

तो बोली- चल मैं तुझे बताती हूँ !

और उन्होंने अपना चनिया निकाल दिया और पेंटी भी निकाल दी। मैं तो देखता ही रह गया।

वो बोली- अब नीचे मेरी चूत में उंगली डाल !

मैंने वैसा ही किया।Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

आंटी और उनकी बेटी की चुदाई भाग २


वो चिल्लाने लगी- एक नहीं तीन उंगलियाँ दल कर अंदर-बाहर कर !

मैंने वैसा ही किया।

वो आहें भरने लगी- आह्ह्ह्ह् ……..ऊऊ ऊऊऊऊउह्ह्ह्ह् ………..उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्………चु हूउदूऊ ऊउ……….

मैंने लगभग 15 मिनट तक उंगली-चोदन किया। अचानक उनकी चूत से पानी निकलने लगा। मैं समझ गया कि आंटी झड़ गई हैं। पर मेरा लंड फिर से तन गया था तो मैंने भी आंटी से कहा- आंटी, अब मेरे लंड को अपने मुँह में ले लो ! वो फिर से तन गया है !

वो बोली- चोदू ! सिर्फ मुँहचोदन ही करेगा या चूत भी चोदेगा ?

मैं झट से तैयार हो गया। मैंने आंटी की टाँगें फ़ैलाई, उनकी चूत पर अपना लण्ड रखा और जोर से धक्का दिया।

आंटी चिल्ला उठी- लौड़े ! धीरे से डाल ! बेनचोद ! 6 महीने के बाद इतना बाद लण्ड चूत में एक ही झटके में डाल रहा है ?

मैं उनके बोबे दबाने लगा, फिर दूसरे धक्के में मैंने अपना पूरा लण्ड आंटी की चूत में डाल दिया।वो चिल्लाने लगी- निकाल बाहर ! फाड़ दी मेरी चूत ! निकाल बाहर ! Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

मैंने उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और ऊपर पड़ा रहा। जैसे ही मुझे लगा कि वो अब दर्द कम हुआ है तो मैं धीरे-धीरे झटके देने लगा।

उनको मज़ा आने लगा था, वो भी उछल-उछल कर साथ दे रही थी- आः ह ह्ह्ह्ह ! ऊऽऽऽ फ़्फ़्फ़ ! आऽऽ आऽ ई ईऽऽए चोद …जोर से ! मज़ा आ गया ! जैसी आवाजें निकाल रही थी।

मैंने अपने झटकों की रफ्तार और तेज़ कर दी। वो भी मजे से चुदवा रही थी। 15 मिनट के बाद मुझे लगा कि मेरा निकल रहा है, तो मैं आंटी से बोला- आंटी मेरा निकलने वाला है !

तो वो बोली- अंदर ही निकाल दे !

और मैं अंदर ही झड़ गया।

उस रोज़ हमने तीन बार चुदाई की और वो अपने घर चली गई। शाम को मेरा खाना लेकर उसकी बेटी आई। वो बड़ी ही सेक्सी थी।

मैंने उसको भी चोदने का कार्यक्रम बना लिया जो मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगा।Chudai ki Kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

Meri patni mere boss ke sath soi Part 2


Isliye ek bar phir aage aa kar ab maine uska hath chaddi ke under ghusa diya jisse ab lund seedhe seedhe hi uske hath me aa gaya. Usne unke lund ko jor se jakar liya.  Wo ab chudwane ke liye bilkul taiyar dikh rahi thi, par ab bhi hichak baki thi. Sir ne uski panty ko kheenchna shuroo kiya, to rokne ki koshish karne ke bajay usne chootar uthae ar unhe panty ko aram se utar lene diya. Unka lund bhi chaddi se bahar jhank raha tha aur Rajshree use lagatar sahla rahi thi.  Unhone apni chaddi bhi puri tarah utar di aur ab we dono mere samne ke sofe par poore nange baithe ek doosre se sab kuch be hichak kar rahe the. Mai phir se whisky ka glass le kar unke pas gaya aur unhe whisky pilaye.  Phir Rajshree ka hath paker ke main use uthane laga to we dono hi sawalia najaro se mujhe dekhne lage. Rajshree khadi ho gayi. Maine uske kandhe daba ke use sofe ke samne jameen pe baitha diya. Is dauran maine bhi uske chuchi daba diye. Wo muskura ke mujhe dekhi.  Uska hath pakar ke use aage barha ke sir ka lund pakarwaya aur apne hath se uske sir ko dhakka de kar bilkul munh ko lund ke pas pahuncha diya.Unka lund uske hotho ko chhoo raha tha. Maine thora aur dhakka diya aur unka supara uske muh me ghus gaya.  Rajshree ne jyada wirodh kiye bina lund ko muh me le liya aur choosne lagi. Shayad ab use puri tarah se mazaa aane laga tha.

Shuroo shuroo me usne sirf supara choosa par jaldi hi poora lund muh me ghusa liya aur peshewar randi ki tarah use choosne lagi. Ab use yakeenan bahut maja aa raha tha.  Kuch der lund chuswane ke bad sir ne use upar kheencha aur sofe par lita diya. Mai samajh gaya ki ab we uski choot chatenge. Wo apne sir ko sofe ki side par tika kar chit let gayi. Maine uski tange failayi aur ghutno se morkar unhe upar kar diya taki choot sir ko saf dikhayi de.  Moti moti jangho ki beech us ki mulayam bur dekh ker sir ke muh me paani aa gaya aur who pyar se un ki bur per haath pherne lage. Rajshree ko jivan me pahli bar apni pati ke saamne, pati ke alava kisi aur ne nanga dekha tha.  Mera haath anayas uske fulle huye bina jhant ke chut par chali gayi. Use sahlane ke baad maine khud ko roka. Aaj use chodne ka haque maine sir ko de rakha tha. Mere liye to sari jindagi padi hai. Maine sir ka haath uske chut par rakh diya. Hath rakhte hi Rajshree upar uchal gayi.  “Darling kiya rasili bur hai tumhari. Ekdum makhan ki tarah.” Kahte huy sir ne uske chikne bur ko hatheli se sahlane shuru kiya. Ab Rajshree siskari bharne lagi. Ab sir ne Rajshree ki hatho ko upper sir ki tartaf bandh diya aur un ki peeth ki neeche aik cushion rakh diya jis se us ka kamar upper ho gaya aur garden thodi piche ho gai.  Rajshree kisi kabotri ki tarah shikari ka jal me thi aur hil bhi nahi sakthi thi.Sir us ke choochi masal tay hue kahe, “Sharmayei mat aapki bur aik dum nai dulhain ki terah tight hai. Kya, roj nahi chudti hai.”

Rajshree sharmate hue boli, “Nahi mahine me 2-3 bar. Jaydatar who munh se chat kar hi kaam chalate hai.”   We choot par fir ungli phirane lage. Maine hath barha kar uski choot ko aur khol diya aur we uske charo taraf sahlate rahe. Beech beech me ungli thori si under bhi ghusa dete the. Phir we jhuke aur choot ko chatne lage.  Maine uski tange pakar kar phaila rakhi thi. Sir khoob mast ho kar choot chat rahe the aur wo bhi khoob mast ho kar chatwa rahi thi. Jab unki jeebh choot me thora under jati thi to apne aap uske chootar kuchh uchhal se jate the jaise wo jeebh ko lund ki tarah aur under ghuswana chah rahi ho.  Maine kaha, “Sir, ab chaliye andar bed room me chal kar aram se ise ji bhar ke chod lijiye.” Aise shabd sun kar wo aur meri bibi bhi chaunk gayi. Par we dono uthe aur bed room me chale gaye, wahan phir se Rajshree bed par chit let gayi aur sir uski choot chatne lage.  Thori der chatne ke bad we uthe. We ab use chodne ke liye tayar the. We uth kar age uski jangho par pahunch gaye. Maine mauka dekha aur uski choot ko khola. Mera lund ekdum kada tha man kiya sir ko hata kar khud us par sawar ho jau aur use pahle chodu. Mahaul bahut garam tha.

Sir ne puchcha, “Tumhara lund kitna bada hai?” Maine jawab diya, “Aap se aadha bhi nahi hai.” Boss hanste hue, “Isi liya in ki bur unchudi lagti hai. Koi baat nahi me is ka bhosda bana dunga.”  Sun kar Rajshree sihar uthi. Sir ne Rajshree ko bistar pe leta diya aur bur ko maze se sahlane lage. Ab Rajshree puri tarah se taiyaar ho gayi to sir bole, “Ab chudwane ke liye tayar ho jaiye.” Rajshree sharmate huye boli, “Mai taiyaar hun, par thora dheere dheere chodiyega, kyonki apka who bahut bada aur mota hai.”  Sir ne Rajshree ko palang per is tarah lita dia ki unki par jamin per they aur unki bur palang ki kinare per thi. Sir ne apne lund par thodi si thuk lagai aur Rajshree ki jangho ko chauda kar lund ka top chut par rakh dia. Rajshree gangana uthi. Main ek haath se uski chut kholi aur doosre hath se unka lund pakar kar lund ka supara Rajshree ki choot par ragadne laga.  Uski choot behad gili ho chuki thi aur besabri se lund ka intejar kar rahi thi. Unke lund ko maine choot ke under thora sa ghuseda, par sir besabri ke sath use aur ghusedte chale gaye. Ek second me hi unka poora lund uski choot me gayab ho gaya. Ab Rajshree jor jor se chillane lagi,

“Dard ho raha hai. Ab bas karo.” Magar sir ne nahi suni. Aur chut chodte rahe.  Poora lund ghusane ke bad we ab uske upar let gaye dono hatho se uski chunchiya masalne lage aur muh choomne lage. Unka chutar upar neeche hota hua lund se uski poori kokh tatol raha tha. Rajshree tange faila ke khoob masti se chudai ka maja le rahi thi .  Achank sir ruk, gaye aur meri taraf mur ke bole, “Yaar sorry.. hamare pas condom to hai hi nahi.. tumhare pas hai kya?” Maine kaha, “Sir, aap befikr ho kar chodiye aur choot me hi jhariye! Bad me dekhi jayegi!”  We utsahit ho kar aur jor jor se dhakke lagane lage. Rajshree bhi chutar uchhal uchhal ke unhe poora sahyog de rahi thi. Aur phir we achanak uske mammo ko jor se masalte hue uske upar thak kar nidhal ho kar ruk gaye.  Unke chutaro ke jhatko se pata chal raha tha ki we jhar rahe hai. Meri bibi ki choot me! Kuch minute bad jab unhone apna lund bahar nikala aur uski bagal me lete, to choot se balbala kar unka maal nikalne laga.  Mai uski tango ke pas khare ho kar uski choot se nikalna wale sir ke maal ko dekhta raha aur wo tange failaye chup chap use bahne de rahi thi. Choot ke aas pass ki sari chadar me maal nikal kar fail gaya. Sir dheere dheere uske mamme sahlate rahe.  Unka lund ab sikur kar chhota ho chukka tha. Thori der bad maine poocha, “Sir, meri bibi ko chodne me maja aaya?”

“Bahut” unhone kaha, aisa maja shayad mujhe jindagi me pahli bar mila hai!” Main bola, “Aur chodna chahenge ise?” Sir ne sar hilaya. “Haa”  Mine kaha, “Iska gaand abhi baaki hai sir. Aur wo virgin hai.”  Ab sir ne Rajshree ko uthaya or kutti ki tarah uska gaand utha diya aur gand ka ched chatne lage. Wo bahut khush the ki unhe kunwara gaand mil raha hai. Wo gaand ke ched mein apni jeebh daal kar thuk se gila kar rahe the aur ched bada karne ki koshish kar rahe the. Pahle unhone apna ek ungli gaand mein ghusaya fir do do ungli ghused diya.  Fir sir uthe aur ek dabbe se tel nikala aur Rajshree ko diya aur kahe, “Ise mere lund per lagaiye.” Rajshree ne sir ke lund par dabbe se nikala tel dal diya aur haath se sahlane lagi.Fir usne dheele lund ko hilaya aur khada kiya. Aur use Rajshree ke gand ke ched par rakh diya.  Rajshree bol padi, “Please dheere, bahoot moota hai.” Sir bole, “Chinta mat kariye aram se karunga. Aapki gaand to bahut tight hai.” Ab sir ne lund ka top Rajshree ke gaand per rakh kar aik dhaka mara to topi he Rajshree ki tight gaand mein ghoos paya.  Ek baar sans khinch kar jo jor ka dhakka mara sir ne to Rajshree ki cheeekh nikal gayi. “Aaaaaaaaaah maaaaaaaaaaa maaaaaaaarrrrrrr gayi re. Nikalo is laude ko bbbbaaaaaaaap reeeeeeeeee. Plzzzzzz meri gaand fat jayegi. Saale harami Sudhir khada ho ke meri chudai dekh raha hai.

Mujhe bachao na madarchod.”  Rajshree ke gaand se khoon ana laga jaise dulhan ki seal tuti ho. Ek haath se chuchi ko masalte huye aik aur jhatka dia to 4 inch lund Rajshree ki gaand ko phadta hua ghus gaya. Rajshree cheekh padi aur us ki aankho se aasu nikal pade, “Please mujha chhor dijiye.”  Ab unho ne Rajshree ka pairo ko upar utha dia aur dono haath se apne lund pakar kar Rajshree ki gaand me ghusani ki koshis kerna laga Rajshree chilla rahi thi, “Nnahiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii,ahahahahaaaaaaaaaaaaa aaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh.”  Aur aak akhri jhatke ke baad, sir ka poora lund gaand ko phadta hua jad tak Rajshree ki gaand mein chala gayaa. Rajshree ro rahi thi aur mujhe bahut mazaa aa raha tha, “Aaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh meri maaaaaaaaaaaaaaaa me mer gaieeeeeeeeeeeeeeeeeee please nikal lo meri gaand me bahout dard ho raha hai.”  Lekin sir uske dono chuchion ko apne haath se dabakar, dheere dheere lund ko ander bahar karne lage. Un ka moota lund Rajshree ki gaand me rubber ki ring banata hua andar bahar ho raha tha.  Rajshree ka cheekhna chillana badhta jar aha tha, jab mujhse nahi raha gaya to main utha aur hathat apna lund uske munh mein daal diya.

Who bhi iske liye taiyaar nahi thi aur chaunk gayi. Magar parichit lund ko dekh kar chusne lagi. Isse uska chhekhna kuch kam ho gaya. Ab uske do do ched lund ke le rahe the.  Yeh dekh kar sir ne apni speed badhani shuru ki. Rajshree sisak rahi thi lekin who poori tarah se sir ke kabje me thi. Sir ne Rajshree ka pair aur hath jakar kar janwar ki tarah chodna jaari rakha. Rajshree chatpata rahi thi. Main apna lund uske munh mein chodta raha.  Jab sir Rajshree ki tang pakar jor se chodtay to us ki piyal baj uthati thi jis se vatavaran aur bhi sexi ho jata tha. Sir Rajshree ki jabardust chudai kar rahe the. Poore kamre mein sirf fuch fuch fuch fuch, slop slop slp slop slop ke sath palang ki chrrrrrrchrrrr chrrrrrr chrrrr goong rahi thi.  Rajshree apna sir idhar udhar patak rahi thi aur jor jor se cheekh rahi thi, “Aaaaaaaaaahhhhhhh ooooooohhhhhhhhhhhhh nahiiiiiiiiiiiiiiii maaaaaaaaaaaaaaa me mar gaiiiiiiiiiiiiii aaaaaaaaeeeeeeeeeeeeee aaaaaaaaaaeeeeeeeeeeeeeee chod do pleaseeeeeeeeeeee me mar jaungi.”  Fuch fuch fuch fuch fuch fuch fuck fuck fucl fuck ki awaj ka sath hi Rajshree ki rone ki awaj aa rahi thi. Sir sand ki tarah Rajshree per chade hue the aur teji se us ko chod rahe the.

Sir ki jangh Rajshree ki chutado ko is terha dhun rehi thi jesa aurat dunday se kapda koot thi hai. Sir Rajshree ke chuchiyo ko khub jor jor se masal rahe the. Jisse uska dard aur badh raha tha. Is sexy scene dekh kar mera paani nikal gaya. Main Rajshree ke munh mein hi apna paani nikal diya.  Dheere dheere Rajshree thodi shant hui to sir apna pura lund nikalke ek bahut hi jor ka jhatka mara, jisse Rajshree ka dard itna badh gaya ki wo jor se chila uthi, “Nnahiiiiiiiiiiiiiiii maaaaaaaaaaaaaaa mai mar gaiiiiiiiiiiiiii,”  Aur apne dono pairo ko patkane lagi jisse mujhe laga ki sir ne Rajshree ka gaand ek dam se phar diya hai.15 minute khub jor se chudai karne ke bad Rajshree ko bhi maza aane laga. Wo bhi upne chutad dhakel ke chudai kar wane lagi.  Sir ka speed badhta gaya. Sir ruke nahi aur peeche se chodne lage. 10/15 minute chod ne ke bad sir ne lund nikala or Rajshree ki chut ki ched me ragar ne lage. Maine samajha ki sir ab thak gaue hai.  Magar2 minute tak ragadne ke baad phir sir ne lund ko pakar kar gaand ki ched pe rakh kar jorka dhakka mara to adha lund gaand ki andher chala gaya or Rajshree chillai, “Oo margae margeee re.”

Pure 45 minute tak Rajshree ko jam ke chodane ke bad sir ne apna sperm Rajshree ki gaand me bhar dia. Aur Rajshree ke bagal me let gaye. Rajshree adhmari ho chuki thi us ka gaand pura phat chuka tha, aur puri tarah phul gaya tha.  Who vaisa hi palang per tang faila ker pet ke bal padi thi. Is tarha 3 ghanta chudai ka kaam chala itne samay me sir ne do bar chut mara do bar gaand mara. Rajshree bhi sir ka lund chus ke chat ke sara pani pee gayi or maze se chat ti rahi  Baad mein sab thak kar bed par let gaye. Rajshree chutad hilate hue toilet mein gayi fresh hone ke liye. Wo peeche se ekdum randi lag rahi thi.  Main mauka dekh kar sir ke pass gaya aur dheere se bola “Sir, agle hafte aap log ek aadmi ko Japan bhej rahe hai ek hafte ke tour par. Agar aap mujhe bhej de, to pura ek hafta, jab tak mai wahan rahoonga, din raat ye aapke pas rahegi aur ise ji bhar ke chod lijiyega.

Aap chahe, to yahi rah sakte hai, ya ye aapke ghar chali jayegi nahi to mai aap logo ke liye kahin honeymoon package book karwa deta hoo. Aish kariyega!”  Sir fauran taiyar ho gaye. Maine phir kaha, “Aur sir, aaj raat yahi ruk jaiye… issi bed pe apne honeymoon ka rehearsal kar lijiye… mai yaha is aram kursi par baithunga aur aapko kisi cheez ki zarrorat ho, to mai kar doonga!”  Sir iske liye bhi taiyar ho gaye. Us din rat bhar we bar bar meri bibi ko chodte rahe aur mai aram kursi par baith kar unhe use chodte hue dekhta raha! Subah chadar pe itne daag lage hue the jaise uspe hafte bhar se koi randi chudwa rahi ho! Subah Rajshree thoda pair faila kar langda kar chal rahi thi. Magar mujhe bahut achcha lag raha tha.

Post Views :142

गन्ने के खेत मेंरा लंड गरम चूत में


प्रेषक : विक्रांत …
हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विक्रांत है। दोस्तों मैंने निष्ठा नाम की एक लड़की को चोदा था और वो भी एक गन्ने के खेत में, क्योंकि वो मेरी खेत वाली पड़ोसन थी तो यह बात उस दिन की है, जब वो खेत पर अपने घर से बिल्कुल अकेली आई हुई थी। फिर मैंने देखा कि वो थोड़ी दूरी पर आगे की तरफ अपने खेत में ही झुककर सरसों का साग तोड़ रही थी और उसे इस तरह झुका हुआ देखकर मेरा देख लंड अकड़ रहा था और फिर मैंने पीछे से उसे आवाज़ देकर पूछा कि आज अकेले कैसे निष्ठा? तो वो बोली कि मेरे सभी घर वाले बुआ की लड़की की शादी में गये हुए है और इसलिए आज में घर पर अकेले ही हूँ।
दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर तो साला मेरा दिमाग बिल्कुल शैतान हो गया और में मन ही मन सोचने लगा कि मेरे भाई आज तो मौका बहुत अच्छा था और ऊपर से वो भी आज कुछ ज्यादा ही मुझे स्माईल दे रही थी। फिर मैंने उससे पूछा कि निष्ठा क्या तेरे पास दराती है? तो वो बोली कि मेरे पास तो नहीं है, लेकिन वो कुए पर रखी हुई है। फिर मैंने कहा कि मेरा ट्रेक्टर स्टार्ट नहीं हो रहा है तो तू ट्रेक्टर के पास ले आ तो वो बोली कि में अभी लाती हूँ। फिर उसने मुझसे पूछा कि वहां पर कौन कौन है? मैंने कहा कि में भी आज एकदम अकेला ही हूँ। वो बोली कि ठीक है में अभी लाती हूँ, तुम चलो।

Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Teen sex Video, Collage sex, Hindi sex video. Indian sex video
दोस्तों सही में मुझे आज तो ऐसा लग रहा है कि जैसे सारी भगवान मेरा साथ दे रहा था, क्योंकि आज आप पास के खेतों में भी कोई भी नहीं नज़र आ रहा था, में ट्रेक्टर के पास आग के पास खड़ा था, जहाँ पर मेरा दूध भी गर्म हो रहा था जो कि मैंने अभी तक नहीं पिया था। फिर वो आई और मुझसे बोली कि ये ले लो दराती इसका क्या करना है? फिर मैंने उससे कहा कि यह तुम यहीं पर रख दो और मुझे तुम्हे कुछ दिखाना भी है। दोस्तों वहीं पास में ही एक गन्ने का खेत था तो मैंने उससे कहा कि तुम मेरे साथ आओ गन्ने के खेत में, वहां कुछ है तो मुझे पता नहीं क्या है, वो भी बिना किसी दिक्कत के मेरे साथ चल पड़ी।
जैसे ही वो गन्ने के खेत में घुसी और थोड़ा सा अंदर जाते ही मैंने उसे पीछे से कसकर पकड़ लिया तो वो बोली कि यह क्या कर रहे हो दीपक पागल हो गये हो क्या? में अपने भैया से बोल दूँगी। फिर मैंने कहा कि यार में तुम्हे बहुत पसंद करता हूँ और तुम बड़ी सेक्सी और हॉट हो। फिर वो मुझसे बोली कि पसंद तो में भी तुम्हे करती हूँ, लेकिन यह कोई तरीका थोड़ी है यार? तो मैंने कहा कि आज मत रोको मुझे, कब से पागल हो रहा हूँ तुम्हारे लिए। फिर वो बोली कि तुम सही में पागल हो और किसी ने हमे यहाँ पर ऐसे देख लिया ना तो हम दोनों की पूरे गावं में इज़्ज़त उछल जाएगी। फिर मैंने कहा कि कुछ नहीं होगा और आज वैसे भी तुम्हारे घरवाले तो कोई भी नहीं है और मेरे घर वाले कोई आयेंगे भी नहीं। फिर मैंने उसे इतना कहने के बाद किस करना शुरू कर दिया और उसके कान के पीछे जो हल्के हल्के बाल थे कसम से उन्हें देखकर तो मेरा लंड और भी बिल्कुल पागल हो रहा था, में उसके बूब्स को भी धीरे धीरे दबाने लगा तो वो बोली कि मुझे दर्द हो रहा है जाने दो मुझे, क्या तुम्हे बिल्कुल भी शर्म नहीं आती, एक अकेली लड़की देखी और बस टूट पड़े उस पर? फिर मैंने इतनी ही देर में उसे नीचे लेटा दिया और फिर उसे लगातार किस करने लगा और हम दोनों की इस हलचल से गन्ने भी हिल रहे थे और जिनसे आवाज़े आ रही थी, में उसके गले, होंठ, गाल और जांघो पर किस करने लगा और उसे भी अब बहुत अच्छा लग रहा था और वो भी अब मुझे कुछ भी नहीं कह रही थी, बस मेरे साथ मज़े ले रही थी।
फिर कुछ देर के बाद वो डरती घबराती हुई मुझसे बोली कि हम दोनों इस समय बिल्कुल किनारे पर ही है और इस वजह से हमारी आवाज बाहर तक जा रही है और कोई हमें सुन लेगा तो हम दोनों के लिए बहुत बड़ी दिक्कत हो सकती है। फिर मैंने उससे कहा कि क्यों तुम मुझे पसंद करती हो ना? तो वो बोली कि हाँ। फिर मैंने कहा कि तो भाग मत जाना, में अभी वहां से एक बोरी लेकर आता हूँ। फिर हम गन्ने के खेत में बहुत अंदर तक जाएँगे और में उससे इतना कहकर जल्दी से भागकर ट्रेक्टर के पास चला गया और वहां से मैंने जूट की एक बोरी ली और जल्दी से गरमा गरम दूध का डब्बा उठाया और तेज़ी से भागकर वापस खेत में आ गया। फिर मैंने वहां पर पहुंचकर देखा तो वो वहीं खड़ी हुई थी, मुझे देखकर वो बोली कि तू बड़ा जल्दी आ गया, हाँ तुझे लग रहा होगा कि में कहीं भाग ना जाऊँ और इसलिए भागता हुआ आ रहा है।

Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Teen sex Video, Collage sex, Hindi sex video. Indian sex video
फिर मैंने कहा कि अब ज्यादा बकचोदी मत कर, हम अब अंदर चलते है और अब हम दोनों अंदर गन्ने के खेत में जा रहे थे तो तभी वो बोली कि इस डब्बे में क्या है? फिर मैंने कहा कि इसमें दूध है मेरा छोटा भाई नवीन देकर गया था, अब हम दोनों खेत में बहुत अंदर तक आ गये थे तो वहां से आवाज़ बाहर जाने का मतलब ही नहीं बनता था। मैंने जल्दी से पैरों से आस पास से गन्ने के पेड़ तोड़े और फिर उन पर बोरी डाल दी और दूध का डब्बा वहीं रख दिया तो वो खड़ी खड़ी यह सब देख रही थी। अब मैंने उसे जल्दी से अपनी गोद में उठाया और बोरी पर लेटा दिया और उसका चेहरा एकदम सुर्ख लाल था साली पटाखा लग रही थी, मेरा लंड तो पिछले बहुत देर से फूलकर मोटा हो रहा था, अब में भी उसके पास में लेट गया और अपना एक पैर उसके ऊपर रखकर उसे किस कर रहा था और साथ साथ उसके बूब्स भी दबा रहा था और अब वो भी मुझे किस रही थी। दोस्तों वो साली एक बहुत छोटे से गावं की होने के बाद भी मुझे ऐसे किस कर रही थी जैसे वो साली दुबई में रहती हो। मैंने उससे कहा कि क्यों तुझे बहुत अच्छा किस करना आता है? फिर वो बोली कि तुझे क्या में चूतिया लगती हूँ? तो में बोला कि वाह बड़ा दम लग रहा है मेडम में? फिर वो बोली कि लड़ के देख ले कौन जितेगा? बस फिर तो में उस पर टूट पड़ा और उसने सलवार सूट पहना हुआ था और मैंने सलवार सूट पहना हुआ था और अब में उसके ऊपर आ गया और उसे किस करते हुए उसकी चूत पर कपड़ो के ऊपर से ही अपना लंड रगड़ने लगा और अब तक उसके बाल भी खुलकर बिखर गये थे और उसने भी मुझे कसकर पकड़ लिया। मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोलना चाहा तो उसने मेरे हाथ पकड़ लिए और बड़ी सेक्सी सी आवाज़ में बोली कि दीपक मुझे बहुत डर लग रहा है और मैंने आज तक यह सब किसी के साथ नहीं किया है।
फिर मैंने उससे कहा कि ले तू तो अभी से ही हार मान गई। फिर वो बोली कि साले में अभी हारी नहीं हूँ और जब टाईम आएगा तो तू ही रोकर भागेगा, यह सब पहली बार हो रहा है तो इसलिए में डर रही हूँ और एक दिन वैसे मेरी भाभी ने मुझसे कहा था कि इन सब में पहली पहली बार में बहुत दर्द होता है। फिर मैंने उससे कहा कि तू बिल्कुल भी मत डर, क्योंकि में बहुत आराम से करूँगा और मैंने उसका नाड़ा खोला और उसे थोड़ा नीचे सरकाकर देखा। फिर मैंने देखा कि उसने सलवार के नीचे कुछ नहीं पहना हुआ था, लेकिन उसने अपनी चूत के बाल साफ किए हुए थे। दोस्तों उसकी चूत बहुत गोरी थी और जिसे देखते ही मेरा मन ललचाने लगा। मैंने अब उसकी चूत के दाने को सहलाना शुरू कर दिया और फिर उसे किस करने लगा। दोस्तों वो तो अब समझो एकदम पागल सी हो गई और फिर मैंने उसकी पूरी सलवार को उतार दिया और उसकी चूत में एक उंगली डाली, लेकिन मैंने अब महसूस किया कि मेरी उंगली भी बहुत आसानी से चूत के अंदर नहीं जा रही थी, क्योंकि उसकी चूत बहुत टाईट थी और वो अभी तक वर्जिन थी। फिर में समझ गया कि अगर मैंने इसे अभी अपना लंड दिखाया तो यह मेरे लंड का आकार देखकर
फिर मेरे सर पर जो कपड़ा बंधा हुआ था वो मैंने उतारा और उसकी आँखो पर बांध दिया तो वो बोली कि अब यह सब किसके लिए? फिर मैंने कहा कि किस के लिए, क्या मेरी जान बहुत हॉट है और यह सब तो इसलिए कि जिससे तुम्हे और भी मज़ा आए। फिर मैंने धीरे धीरे उसकी चूत में अपनी उंगली को डालकर अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और जिसकी वजह से बहुत हल्का हल्का पानी भी बाहर आ रहा था और उसकी चूत थोड़ी गीली भी हो रही थी और एक ऊँगली बहुत आराम से अंदर बाहर आने जाने लगी थी, उसे भी बड़ा मज़ा आ रहा था और उसके मुहं से सिसकियाँ निकल रही थी और उसने अपने दोनों पैरों को पूरा खोल दिया, जिसकी वजह से उसकी चूत का छेद और थोड़ा साफ दिख रहा था। फिर मैंने उसकी चूत के मुहं पर जल्दी से अपना लंड रखा और फिर थोड़ा घिसने के बाद दूर हटा लिया। फिर वो बोली कि यह क्या था? फिर मैंने कहा कि कुछ नहीं मेरा हाथ था। फिर मैंने एक हाथ उसके पेट पर रखा और एक बीच की ऊँगली को उसकी चूत में तेज़ी से आगे पीछे करने लगा तो वो तभी मैंने महसूस किया कि अब उसका पेट भी काँप रहा था। फिर मैंने उसे बैठाया और उसका सूट भी उतार दिया, उसने अंदर काली कलर की ब्रा पहनी हुई थी और ब्रा उतारकर मैंने उसे एक बार फिर से नीचे लेटा लिया और अब वो बस ब्रा में ही थी और पूरी नंगी थी। मैंने भी अपनी जेकेट को उतारा और साथ ही साथ सेंडो बनियान भी और उसके बूब्स से अपनी गरम गरम छाती लगा दी और फिर जैसे ही मेरी छाती उससे छुई तो वो मुझसे बोली कि दीपक मुझे आज पहली बार बड़ा अच्छा लग रहा है यार, क्या तुम मुझे बिना तरस खाए कुतिया की तरह चोद सकते हो? गौर से देखो कि मुझे मेरी शक्ल कुतिया से कितनी मिलती जुलती है और अगर तुम कहो तो में भौंककर भी दिखाऊँ?
फिर मैंने उसके दोनों कंधो से उसकी ब्रा को भी नीचे किया और एक बूब्स को चूसने लगा तो वो मेरे सर पर अपनी उंगलियां फेरने लगी। फिर मैंने उसकी ब्रा को पूरी उतार दिया और अपना भी लोवर निकाला और साथ ही अंडरवियर भी निकाल दी, क्योंकि अब मुझसे भी रूका नहीं जा रहा था। दोस्तो मेरा लंड ज्यादा भी बड़ा नहीं है, लेकिन हाँ एक प्यासी तड़पती हुई बैचेन लड़की की चूत को चोदकर संतुष्ट करने के लिए एकदम फिट है और वो अब पूरी गरम हो चुकी थी। तभी मेरे दिमाग में आया कि यार डब्बे में गरमा गरम दूध भी तो रखा है। फिर मैंने दूध पिया और उसे भी पिलाया। दोस्तों अब गावं में शुद्ध, ताज़ा दूध होता है तो उसे पीने के बाद डब्बे में बहुत सारी मलाई बच गई थी तो वो मैंने नहीं खाई थी। फिर मैंने उसकी चूत पर मलाई रखी और उसे चाटने लगा और अब उसे और भी मज़ा आ रहा था। अब तो मानो वो पूरी ही काँप रही थी और सिसकियाँ भर रही थी और अब कुत्ते का खिताब तो मुझे पहले ही मिल चुका था। फिर मैंने कुत्ते की तरह सारी दूध की मलाई उसकी चूत से चाट ली और वो बार बार बोल रही थी दीपक यार अब जल्दी से मुझे चोद दो, में अब और इंतजार नहीं कर सकती और थोड़ा जल्दी करो।

Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Teen sex Video, Collage sex, Hindi sex video. Indian sex video
फिर में उसके ऊपर चड़ गया तो उसने मेरी छाती पर काटना शुरू कर दिया और वो बिल्कुल पागल सी हो गई थी और उसने अपनी आँखो से वो पट्टी भी निकाल दी थी और मेरा लंड उसकी चूत पर लगा था और वो नीचे से धक्के मार रही थी और वो बेसुध होकर पागलों की तरह मुझे किस कर रही थी, उसके बाल भी बिखरे हुए थे और आँखो से आँसू बाहर आ रहे थे और इतनी गरम इतनी गरम सच में दोस्तों अब मैंने उसके दोनों हाथ फैलाए और कसकर पकड़ लिए और अपने दोनों पैरों से उसके दोनों पैरों को खोल दिया और अब में लंड डालने के लिए पूरी तरह से तैयार था। फिर मैंने लंड को उसकी चूत के मुहं पर रखा और थोड़ा सा दबाव दिया तो वो मुझसे पहले तैयार थी। वो मुझे नीचे से धक्के मार रही थी और पूरी चुद्दो लग रही थी और जबकि सच यह था कि वो अब तक वर्जिन थी और मैंने जब थोड़ा सा लंड अंदर डाला तो वो कसकर मुझसे चिपक गई और मैंने नीचे देखा तो लंड अभी पूरा अंदर भी नहीं गया था और उसकी चूत से खून बाहर आ रहा था, लेकिन वो फिर भी इन सब बातों से बेखबर होकर मज़े कर रही थी और फिर मैंने भी एक अच्छा मौका देखकर एक ही झटके में अपना सारा लंड उसकी चूत में डाल दिया तो वो एकदम ज़ोर से चिल्ला उठी और मुझसे बोली कि अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आईईईईइ बाहर निकाल ले यार उह्ह्हह्ह मुझे बहुत दर्द हो रहा है आह्ह्ह्हह्ह माँ मेरी चूत फट गई, अब तो इसे बाहर निकाल ले उह्ह्हह्ह में अब इस दर्द को ज्यादा देर नहीं सह सकती, तू अभी इसे मेरी चूत से बाहर निकाल उह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह। दोस्तों फिर मैंने उसकी एक ना सुनी और मैंने लगातार धीरे धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए और में उसके पूरे जिस्म को सहलाने लगा। फिर वो थोड़ी देर चिखती, चिल्लाती रही और फिर कुछ देर के बाद उसे दर्द होना बंद हो गया तो वो भी अब अपनी चूत की चुदाई के मज़े अपने चूतड़ को ऊपर नीचे करके लेने लगी और मुझसे ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदने का इशारा करने लगी। दोस्तों मुझे गरम गरम दूध पीने से और भी ज्यादा मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसको हर एक तरीके से चोदा, कभी उसे कुतिया बनाकर चोदा तो कभी नीचे लेटाकर तो कभी खड़े खड़े धक्के देकर बहुत देर तक लगातार चोदता ही रहा। फिर करीब तीस मिनट चली और इस चुदाई में उसकी और मेरी हालत बहुत खराब हो चुकी थी। फिर मैंने अपना गरम गरम वीर्य उसकी चूत में डालकर उसकी चुदाई को पूरा किया और जब मैंने अपना लंड बाहर निकाला तो मैंने देखा की उसकी चूत का खून मेरे लंड को पूरी तरह लाल कर चुका था।
दोस्तों फिर जब हम उस गन्ने के खेत से बाहर निकले तो उसने मुझे कसकर अपनी बाहों में भर लिया और फिर वो अपने खेत में चली गई। फिर मैंने उसे पीछे से जाते हुए देखा कि उसे अब चलने में भी बहुत दिक्कत हो रही थी और शायद उसकी चूत में कुछ ज्यादा ही दर्द था। दोस्तों फिर मुझे उसे देखकर लगा कि मैंने सही माईने में बहुत ग़लत कर दिया, लेकिन उसके दूसरे दिन उसने मुझे मेरी चुदाई के लिए धन्यवाद कहा और उसने मुझसे कहा कि तुम अब जब भी चाहो मुझे चोद सकते हो, क्योंकि अब मेरे दिल और दिमाग से मेरी भाभी का दिया हुआ डर का भूत बाहर निकल चुका है और में अब चुदाई के नाम से कभी भी नहीं डरूँगी और फिर उसके बाद मैंने उसको उसकी मर्जी से बहुत बार चोदा और बहुत मज़े किए, क्योंकि वो अब हमेशा बिल्कुल बिंदास होकर मुझसे चुदवाने के लिए तैयार खड़ी रहती थी और में उसका एक इशारा पाकर उसकी चुदाई करने चला जाता था ।।
धन्यवाद …

Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Teen sex Video, Collage sex, Hindi sex video. Indian sex video

कामवाली नीतू की मस्त चुदाई


प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 28 साल है, मेरी हाईट 6 फुट 1 इंच है और बॉडी सामान्य है। में हरियाणा से हूँ और मुझे दिन रात बस सेक्स ही दिखता है और सारा दिन घर पर भी छुप-छुपकर आस पड़ोस वाली आंटी, भाभी, और गर्ल्स को देखकर मुठ मारता रहता हूँ। मेरे मम्मी पापा दोनों जॉब करते है तो दिन में घर पर कोई नहीं होता है। ऐसे ही एक दिन में घर में फर्स्ट फ्लोर वाले ड्रॉइग रूम की विंडो से सामने वाली भाभी जो कि झाड़ू लगा रही थी, उनको देख-देखकर मुठ मार रहा था। फर्स्ट फ्लोर पर होने की वजह से उनके बूब्स मुझे बीच-बीच में बिल्कुल साफ़ साफ़ दिख जाते थे, तभी भाभी झाड़ू लगाकर अंदर चली गयी और मेरा लंड ऐसे ही तड़पता रह गया तो मैंने सोचा कि ब्लू फिल्म देखकर ही मुठ मार लेता हूँ।

Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

फिर मैंने अपना लेपटॉप चालू किया और ब्लू फिल्म चला कर देखने लगा, में बिल्कुल हल्की-हल्की आवाज करके ब्लू फिल्म देख रहा था और में आप सबको बता दूँ कि मुझे ब्लू फिल्म बिना पुच-पुच आअहह ऊऊहह की आवाज के अच्छी नहीं लगती है। ऐसे ही थोड़ी देर फिल्म देखने के बाद जब मेरे लंड का पानी निकलने वाला था तो मैंने थोड़ी आवाज तेज कर रखी थी, तभी अचानक घर का दरवाजा किसी ने खटखटाया। फिर मैंने हड़बड़ी में ब्लू फिल्म का साउंड बंद किया और जल्दी से अपना अंडरवियर पहना और दरवाजे के पास जाकर पूछा कौन है? तो बाहर से हमारी कामवाली नीतू की आवाज़ आई। फिर मैंने दरवाजा खोल दिया और वो अंदर आई और बालकनी में झाड़ू लेने चली गयी, में चुपचाप आकर बेडरूम में बैठ गया।

फिर वो अंदर आई और सफाई करने लगी और बेडरूम साफ करके जब वो ड्रॉइग रूम में गयी तो शायद उसकी नज़र मेरे लेपटॉप पर पड़ गयी और उसने लेपटॉप की स्क्रीन को बंद कर दिया और सफाई करके चली गयी। उसके जाने के बाद मैंने दरवाजा अंदर से लॉक किया और फटाफट से लेपटॉप के पास आकर मुठ मारने की तैयारी करने लगा। फिर मैंने देखा कि लेपटॉप का बंद है तो मैंने भी यही सोचा कि नीतू ने कर दिया होगा। फिर मैंने लेपटॉप का फ्लेप वापस से उठाया तो में देखकर दंग रह गया, उसमें अभी भी ब्लू फिल्म चल रही थी, क्योंकि जब दरवाजा बजा तब हड़बड़ी की वजह से में ब्लू फिल्म को बंद करना भूल गया था और सिर्फ़ आवाज बंद करके दरवाजा खोलने चला गया था।

तब मेरे दिमाग़ में एक बात आई कि अगर नीतू (कामवाली) ने लेपटॉप का फ्लेप बंद किया है तो उसने ब्लू फिल्म भी ज़रूर देखी होगी। तब मेरे दिमाग में नीतू की चूत मारने का ख्याल आया। फिर अगले दिन जब वो आने वाली थी तो उससे पहले ही मैंने कुछ ब्लू फिल्म के पोस्टर अपनी टी.वी. ट्रॉली में डी.वी.डी. प्लेयर के ऊपर रख दिए। फिर वो आकर सफाई करने लगी तो मैंने उससे बोला कि नीतू आज़ टी.वी. ट्रॉली भी साफ कर देना। फिर वो जब टी.वी. ट्रॉली की सफाई करने लगी तो में लॉबी मे छुपकर उसे देखने लगा और जैसे ही उसने डी.वी.डी. प्लेयर के ऊपर से मैगज़ीन आदि उठाये तो उसे वो ब्लू फिल्म के पोस्टर दिख गए। तभी उसने झट से पीछे मुड़कर देखा कि कहीं में उसे देख तो नहीं रहा हूँ और में भी साईड में हो गया ताकि में उसे ना दिख सकूँ। फिर उसने बड़े ही ध्यान से पोस्टर पर नंगी फोटो देखी और एक हाथ से अपने बूब्स मसलने लगी।

फिर उसने थोड़ी देर तक देखने के बाद वो पोस्टर वहीं रख दिए और सफाई करके चली गयी। अब मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और जब वो अगले दिन आई और सफाई करके सीढ़ियों पर पोछा लगाने गयी तो में चुपचाप उसके पीछे जाकर खड़ा हो गया। वो झुककर बाल्टी में पोछा धो रही थी, मेरा लंड बिल्कुल तना खड़ा था और उसके झुके होने की वजह से बिल्कुल उसकी चूत के पास ही था। वो जैसे ही सीधी खड़ी होने लगी तो उसकी गांड मेरा मतलब उसकी चूत मेरे खड़े लंड से टच हो गयी और वो कुछ देर तक जानबूझ कर ऐसे ही रही और फिर कुछ देर बाद अचानक पीछे मुड़ी। फिर मैंने बोला कि मुझे नीचे जाना है तो इसलिए में यहाँ आया हूँ तो उसने मुझे साईड दे दी। फिर में नीचे आया और सोचने लगा कि आज तो नीतू की चूत मारनी ही है। फिर में कुछ देर के बाद जब ऊपर जाने लगा तो वो बाल्टी और पोछा ऊपर रखकर वापस जा रही थी।

Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

फिर मैंने थोड़ी हिम्मत की और उसे आवाज़ लगाई और बोला कि नीतू एक मिनट ऊपर आओ तो वो आई और बोली कि क्या हुआ साहब? फिर मैंने कहा कि मेरे बेडरूम में एक कॉर्नर में पोछा सही से नहीं लगा है तो वो गयी और पोछा लेकर आई और मुझसे बोली कि कहाँ पर साहब। तभी मैंने उसे ज़ोर से पकड़ लिया और उसे दिवार के सहारे लगाकर ज़ोर-ज़ोर से उसके बूब्स दबाने लगा और वो छुड़ाने की कोशिश करने लगी और बोली कि साहब ये क्या कर रहे हो? मुझे जाने दो और ये कहकर वो अपने आपको मुझसे छुड़ाकर जाने लगी। फिर मैंने उसे बोला कि नीतू में इतने दिन से प्यासा हूँ क्या तुम मेरी इतनी हेल्प भी नहीं कर सकती? तो उसने मना कर दिया और जाने लगी। फिर मैंने उसे वापस बुलाया और बोला कि प्लीज़ मम्मी पापा को कुछ नहीं बताना, नहीं तो वो मुझे घर से निकाल देंगे। फिर वो बोली कि साहब में आपकी बहुत इज़्ज़त करती हूँ और आप चिंता मत करो, में किसी को कुछ नहीं बोलूंगी और वैसे भी आपने अब तक मेरे साथ कुछ ग़लत नहीं किया है। तभी में उसके सामने हाथ जोड़कर बोला कि नीतू प्लीज़ सिर्फ़ 5 मिनट रुक जाओ तो वो फिर से मना करने लगी।Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

फिर वो बोली कि मेरे पति को पता लग गया तो बहुत प्रोब्लम हो जायेगी साहब। फिर मैंने उससे बोला कि नीतू यहाँ तुम्हारे और मेरे अलावा कौन है? जो तुम्हारे पति को बता देगा और में कौनसा तुम्हें चूत में लंड लेने के लिए बोल रहा हूँ, सिर्फ़ थोड़ी देर बस ऊपर-ऊपर से मज़ा दे दो प्लीज़। फिर वो थोड़ा शरमाने लगी और सर नीचे कर लिया। फिर मैंने जल्दी से मौका देखते हुए उसके बूब्स को फिर से पकड़कर दबाना चालू कर दिया और उसके होंठ ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा तो नीतू की साँसें तेज़ होने लगी और में उसके बूब्स को मसल रहा था और उसकी साँसों की तेज़ी से उसके बूब्स खुद ऊपर नीचे होकर बयान कर रहे थे। फिर मैंने जल्दी से मेन दरवाजा बंद कर दिया और उसका सूट ऊपर उठाकर उसके दोनों बूब्स ब्रा से बाहर निकालकर निप्पल पर जीभ फेरने लगा, अब नीतू धीरे-धीरे तड़पने लगी और आआहह आहह मत करो साहब बोलने लगी।

फिर मैंने थोड़ी देर उसके निप्पल ऐसे ही चूसे और फिर धीरे-धीरे अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर फेरना चालू कर दिया। अब तो वो ज़ोर-ज़ोर से बोल रही थी, ओहह्ह्ह साहब मार डालोगे क्या? आआअहह उफफफफफ्फ़ और ये सब बोलते-बोलते ही मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाने लगी। फिर मैंने करीब 15-20 मिनट तक उसके बूब्स चूसे और जब मेरी नज़र उसके बूब्स पर पड़ी तो वो एकदम लाल हो चुके थे। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी सलवार उतार दी तो वो मना करने लगी। मैंने उसे फिर से समझाया कि में लंड चूत में अंदर नहीं डाल रहा हूँ सिर्फ़ उंगलियाँ ही डाल रहा हूँ तो वो मान गयी। फिर मैंने उसकी चूत में उंगली डाली तो देखा कि उसकी चूत से पानी झड़ रहा था। फिर मैंने उंगली अंदर बाहर करनी चालू कर दी, अब रूम में सिर्फ़ आआहह ऊऊऊऊऊओह चोद डालो मुझे, फाड़ दो मेरी चूत, जैसी आवाज़ें ही आ रही थी। फिर मैंने उसे बोला कि मेरा लंड चूसो तो वो मना करने लगी और बोली कि छी छी ये भी कोई चूसने की चीज़ है साहब।

फिर मैंने अपना लेपटॉप चालू किया और ब्लू फिल्म चला दी, अब नीतू ने जब फिल्म में लंड चूसते हुए देखा तो वो मान गयी और मेरे लंड से खेलने लगी। अब में सोफे पर बैठा था और वो मेरी दोनों टाँगों के बीच में नीचे बैठकर मेरे लंड से खेल रही थी। फिर मेरे फोर्स करने पर उसने लंड मुँह में लिया, ऊऊऊहह फ्रेंड्स में आपको बता नहीं सकता कि उस टाईम मुझे कितना मज़ा आया होगा। बस आप लोग ये समझ लो कि में जन्नत में था। फिर थोड़ी देर वो मेरे बॉल्स से खेलती रही और लंड चूसती रही और फिर मेरा पानी निकलने ही वाला था। फिर मैंने सोचा कि क्यों ना आज इसके मुँह में ही पानी छोड़ दूँ? तो मैंने उसे बताया नहीं और उसके मुँह में ही अपना सारा गर्म-गर्म लंड का पानी छोड़ दिया। फिर वो एकदम से उठकर वॉशबेशिन की तरफ भागी और खाँसी करने लगी। फिर में भी धीरे से उठा और उसके पीछे जाकर उसकी नंगी भारी-भारी चौड़ी गांड पर अपने दोनों हाथ रख दिए और धीरे-धीरे दबाने लगा।

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ना चालू किया तो नीतू तो बिल्कुल पागल होने लगी और ज़बरदस्ती मेरा लंड अपनी चूत में डालने की कोशिश करने लगी। फिर मैंने भी सोचा कि यही सही मौका है और मैंने धीरे से उसकी चूत पर लंड का टोपा रखा और ज़ोर से एक शॉट मारा तो मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में चला गया। फिर वो एकदम से चौंक गयी और ऐसा लगा जैसे कि उसे साँस आना बंद हो गया हो। फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को थोड़ा फैलाया और दोबारा से एक जोरदार झटका मारा, आआहह ओहह्ह्ह्हह साहब, आप तो आज सच में ही मेरी चूत का भोसड़ा बना डालोगे, थोड़ा आराम से डालो ना।

फिर मैंने उसे थोड़ा आगे की तरफ और झुका दिया और वो भी वॉशबेशिन पर अपने हाथ रखकर झुक गयी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में लंड अंदर बाहर करना चालू किया, अब उसे भी मज़ा आने लगा और रूम में भी पच पच, फच फच की आवाज़ें आने लगी। फिर थोड़ी देर तक ऐसे ही चुदाई करने के बाद हम दोनों बेड पर आ गये और वो मेरे लंड पर चढ़ गयी और अपनी गांड को ज़ोर-ज़ोर से आगे पीछे हिलाने लगी। फ्रेंड्स मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि ऐसे ही चुदाई करते-करते मैंने अपने लंड का सारा माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया। उसके बाद हम बाथरूम में एक साथ शॉवर के नीचे नहाने लगे तो मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा। फिर मैंने नीतू से कहा कि इस बार गांड में डालने दो तो वो मना करने लगी और बोली कि अब अगली बार कर लेना ।।

धन्यवाद …

Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

Meri randi wife Part 1


Mera naam abhi diwan hai. Umr 30 saal. Married. Computer hard ware engineer hun. Ek multi national company mein job hai. Khush hun. Waise mere introduction mein kisi ko kuchh khash interest nahi hoga, mai jaanta hun. Meri wife ka naam… dekha immediately interest aa gaya na story mein ! meri wife ka naam Bijal hai. Bijal ki umr 27 hai. Ye koi filmy kahani nahi hai ki mai exaggerate karke baat karu lekin sach baat ye hai ki Bijal sachmuch ek chalti-firti qayaamat hai. Sex bomb hai. Uss ke 34d size ke boobs kisi ko bhi pagal kar dene ke liye kaafi hai. Uski nashili aankhe, uski 32 kamar aur fir waha se achanak se shuru hote uss ke kulhe.. jo ki silky bhi hai aur kadak bhi.. uski kamar ka curvature kisi pahaadi raastey jaisa hai, jaha accident ki sabse jyada possibility raheti hai.  Shaadi ke pahele se hi mujhe ye pata tha ki Bijal ke kuchh affairs rahe hai jab wo college mein thi.

Lekin aaj-kal to ye sab normal hai ye soch kar aur mai khud Bijal ka deewana ban gaya tha to humney shaadi kar li thi. Mai aur meri wife Bijal broad minded hai. Agar mujhe koi ladki achchi lage to mai uss ko batata hun aur uss ko koi ladka handsome lage to wo bhi mujhe bataa ke mujhe tease karti raheti hai. Shaadi ke baad hum dono sirf ek doosre ke ban gaye thhe.  Bijal ka ek college friend tha, Jigar patel. Jo kaafi samay se London tha aur wo India aaya hua tha. Bijal ki aur meri shadi ho gai thi to wo humey milke wish karna chahta tha. Maine Bijal ko kaha ki thhik hai Jigar ko ghar par hi bula lo.  Doosre hi din shaam ko hi Jigar hamare ghar aa gaya. Jigar bahot hi young tha. Handsome tha. Uss ki height kuchh jyada nahi thi lekin, tha wo gathhile badan wala. Bijal ne hamara intro karaya. Mai bhi Jigar ko hans ke mila aur fir baato baato mein mai bhi Jigar ke sath ghul-mil gaya.

Jigar hamare liye London se kuchh gifts bhi leke aaya tha. Baato-baato mein humne plan banaya ki diner ke liye bahar kisi hotel mein jaya jaay. Aur hum hotel ke liye ravana huye. Hotel mein khana khaate waqt maine dekha ki Bijal aur Jigar mein gaheri friendship hai. Bijal baat-baat par Jigar ka hath pakad leti thi ya uss ko taali deti thi. Kabhi kabhi to wo log baat karte huye ye bhi bhul jaate thhe ki mai unke sath hun. Khana khaane ke baad hum teeno meri car mein ghar wapas aa rahe thhe.  Bijal pichhe ki seat mein Jigar ke sath beithhi baate kar rahi thi. Mai drive kar raha tha. Raaste mein maine cigarette lene ke liye car ko road side park kiya aur cigarette ki dookan par aaya. Cigaetee li aur mai apni car ki aura age badhha tabhi maine dekha ki pichhe ki seat mein jaha Bijal aur Jigar beithhe thhe waha koi bhi nahi hai ! mujhe aashchrya hua, lekin mai jaise hi car ke aur najdik gaya maine dekha ki Jigar aur Bijal car mein hi hai, lekin Jigar ne car ke pichhe ki seat mein Bijal ko pakad ke daba diya tha aur wo almost Bijal par tha aur wo Bijal ko smooch kar raha tha. Dono paagal ki tarah ek doosre ko lipate huye lip to lip kiss kar rahe thhe. Mere peir jameen se chipak gaye.

Mai khada rahe gaya aur maine dekha ki Jigar ka ek hath bIjal ke ek boobs ko daba raha tha.  Aur fir unko aisa laga ki shaayad mai aa jaunga ab to wo ek doosre ko chhod ke sidhe beithh gaye. Mai car ki aur aaya aur maine aise hi react kiya ki jaise ki maine kuchh dekha hi na ho. Aur besharmi ki baat to ye bhi thi ki Jigar aur Bijal bhi aise hi baat kar rahe thhe jaise unho ne kuchh kiya na ho. Mai man mein hans diya aur hum hamare ghar aaye. Maine Jigar ko kaha ki late night ho gai hai to kyu na wo mere ghar par hi ruk jaaye aur Jigar ne turant haa bhi kahe di. Bijal bhi khush ho gai.  Tabhi mere office se phone aaya aur mere supervisor ne bataya ki ek computer system kharab ho gai hai aur yaha kaam ruka hua hai to mai urgent office aa jau.  Maine Bijal aur Jigar ko kaha ki mujhe iss waqt office jana hoga aur mai office jaane ke liye ravaana hua. Mujhe nahi jaana tha lekin mujhe jaana pad raha tha iss liye mai bahot hi disturb tha, mai jaanta tha ki mere jaane ke baad Jigar aur meri wife Bijal kuchh na kuchh to jarur karenge lekin mai kya karta. Aisi emergency mein mujhe kaam karna hi tha. Lekin jaise hi mai aadhe raaste pahuncha meri office se fir se phone aaya aur mere supervisor ne bataya ki jo computer bigad gaya tha wo chalu ho gaya hai aur ab mujhe office aane ki koi jarur nahi hai.

Tumko disturb kiya iss liye sorry kahe ke uss ne phone rakh diya aur mai wapas apne ghar ki aur bhaga.  Lekin jaise hi mai ghar par aaya, mere peir jameen se jud gaye. Maine socha kyu na mai ye check karu ki meri wife aur Jigar iss waqt kya kar rahe hai ! mai halke se apne ghar ki ek window ke paas aaya jo mere bedroom ki window thi. Yaha se mujhe mera poora bedroom dikhai de raha tha. Bed room mein dim light thi aur mai andhere mein khada tha to mai kisi ko dikhne wala nahi tha. Maine dekha to bedroom mein Bijal nahi thi.  Mai doud ke drawing room ki window par aaya aur uss ko kuchh khol ke andar dekhne laga. Drawing room mein Bijal aur Jigar dono sofa par beithhe huye thhe aur baate kar rahe thhe. Maine raahat ki saans li. Maine socha chalo thhik hai dono sirf baate hi kar rahe hai, lekin jab kuchh hi deir mein Jigar ne Bijal ke kandhe par apna hath rakha mai chonka, wo log sirf baate nahi karne wale thhe. Jigar ne halke se Bijal ko usske kareeb khincha aur fir bina koi tension ke uss ne Bijal ke hothho par apne hothh rakh diye.

Ohhhhhh… maine dekha ki Bijal bhi bina kuchh react kiye Jigar ko sath de rahi thi. Jigar ne Bijal ko baaho mein bhar liya aur Bijal ko iss tarah smooch karne laga jaise wo Bijal ka bhukha ho..  Bijal aur Jigar dono ek doosre ko hothho ko chabaa rahe thhe, chus rahe thhe, dono ki jeebhe ek doosre ke mooh mein aa-jaa rahi thi, aur Bijal bhi ab Jigar ko lipat ne lagi thi. Bijal ne aaj t-shirt aur jeans paheni hui thi. Kiss karte huye Jigar ka ek hath Bijal ki chhati par aa gaya aur turant hi Bijal ka ek bada sa boob Jigar ke hath mein tha..  Jigar ne Bijal ke boobs ko dabana shuru kiya. Bijal kasmasa gai, uss ke tan-badan mein jaise ki aag lag gai aur wo beqaboo ho kar Jigar ke hothho ko kaatne lagi, chusne lagi, Jigar ne doosra boobs bhi pakad liya aur dabane laga. Kabhi left wala to kabhi right wala. Bijal ka poora badan akad gaya aur wo turant hi sofa par hi Jigar ki godd mein aa gai, kuchh deir tak Jigar Bijal ke boobs ko sahelata raha dabata raha.

Bijal apne sar ko sofa par daal ke girr gai aur apne badan ko jaise ki uss ne Jigar ke hawaale kar diya. Kuchh deir baad Jigar ne pressing smooching roka aur Bijal ko dono hathho mein uthha ke hamare bedroom ki aur chal diya. Mai bhi bhag ke bedroom ke window ki aur aagaya, Jigar meri wife Bijal ko dono hathho mein khilone ki tarah uthha ke bedroom mein aa gaya tha aur Bijal ko niche utaar kar uss ne ussi waqt Bijal ko paas ki deewar par dhakel diya, Bijal deewar se takraai aur Jigar ne turant hi uss ke saamne aa ke Bijal ke t-shirt ko thoda sa upar kiya aur apne dono hathho ko upar ki aur le gaya. Mai ye dekh ke pagal hota jaa raha tha ki mere hi bedroom mein ek parayaa mard meri biwi ke saamne khada tha aur uss ke hath meri wife ke t-shirt mein ghus gaye thhe. Bijal, meri biwi uss ke saamne aise khadi thi ki ye le jo karna hai kar le.. aur Jigar ke dono hath Bijal ke t-shirt mein upar tak aa gaye aur Bijal ke boobs par ruk gaye aur fir maine dekha ki Bijal ka t-shirt gol-gol ghumne laga. Bijal ke muh se shishkaariya nikalne lagi, Jigar uske boobs ko daba raha tha, ghuma raha tha, masal raha tha.

Bijal ke peir ab hilne lage thhe, wo Jigar ko lipat na chahti thi lekin Jigar abhi uss ke saamne hi khada tha aur uski kamar se Bijal ki kamar ko uss ne deewar ke sath daba ke rakha tha. Dono shishkaariya bhar rahe thhe.  “ aaaaahhhh dheere …” “ ssssshhhhhhhh.. aaj bhi ye itne hi kadak hai jitney college ke waqt thhe.. “  Mai samjh gaya, meri wife Bijal aur ye Jigar college mein thhe tab bhi physical intimate thhe.  “ ssssshhhhhh dheere please… jiggs..”  Bijal, Jigar ko jiggs kaheto thi aur wo uss ko apne boobs dheere dabane ko kahe rahi thi. Lekin Jigar itni jor se usske boobs daba raha tha ki Bijal ka poora tshirt hil raha tha.  “ aaj nahi Biju.. aaj to sab kuchh karne de, college ke waqt se bhukha hun..”  Jigar ne Bijal se kaha aur fir apne hath uss ne Bijal ke t-shirt mein se bahar nikal liye.  “ wo aa gaye to ? “ Bijal ko ab bhi darr tha ki mai wapas aa jaunga. Maine turant hi apna mobile phone nikala aur Bijal ko phone kiya. Bijal ne phone receive kiya. Maine Bijal ko kaha ki..  “ sorry darling, yaha office mein computer system boori tarah se bigda hua hai, mujhe usse chalu karne mein shaaya subah ho jayegi.  Tum so jaana.”  “ thhik hai darling, lekin tum office se jab bhi niklo mujhe ek phone kar lena. “  Mujhe Bijal ne kaha aur mai samjh gaya ki wo jyada safe rahena chahti hai.

(TBC)….

Post Views :191

पहले प्यार में रंडी बनकर चुदी


पहले प्यार में रंडी बनकर चुदी



हैल्लो दोस्तों, मेरी इस साईट पर ये पहली कहानी है। दोस्तों मेरा नाम रूचि है और में पटना बिहार से हूँ, मेरी लंबाई 5 फुट 7 इंच है और में दिखने में गोरी हूँ और मेरी पूरी बॉडी पर एक भी बाल नहीं है। मेरा फिगर साईज 36-33-35 है। ये कहानी तब शुरू हुई जब मैंने डेंटल कॉलेज में अपना ग्रेजुयेशन शुरू किया था। में रैगिंग में ही कुछ सीनियर्स कि नजर में चढ़ गई थी, पता नहीं उन्होंने पहले ही दिन कितना मुठ मारा होगा? लेकिन मैंने किसी को भी भाव नहीं दिया। फिर पहला साल गुजरने के बाद मुझे प्रेक्टिकल एग्जॉम में अपने कॉलेज का प्रोजेक्ट वर्क होता था, जिसमें मरीज को देखना होता था।

अब हर नॉर्मल दिन की तरह उस दिन भी मेरा प्रेक्टिकल एग्जॉम था और मेरे पास एक मरीज आया था, वो करीब 22 साल का था, लेकिन सच में बहुत सुंदर और मस्त बंदा था। मेरा दिल एक ही बार में फिसल गया। अब में उसे घूर रही थी और ये बात उसने भी नोटीस कर ली थी। अब मुझे उसके दाँत की फिलिंग करनी थी, पहला दिन तो बिना कुछ बोले ऐसे ही चला गया। फिर अगली बार वो जब आया तो वो मेरे लिए एक गिफ्ट लेकर आया तो मैंने ले लिया और फिर मेरी उससे बहुत सारी बातें हुई। फिर उसने मेरे बारे में सब कुछ पूछा और बताया भी और फिर मुझसे मेरा फोन नम्बर ले लिया। दोस्तों पता नहीं मुझे क्या हुआ था? अब रात के 11 बज रहे थे और अब मेरी आँखों में जैसे नींद थी ही नहीं, बस बहुत बेताबी सी थी। फिर अचानक से मेरा फोन बजा तो मैंने एक रिंग में ही फोन उठा लिया और अब मेरी साँसे बहुत तेज चल रही थी, उसने मुझसे पूछा कि में अभी तक सोई क्यों नहीं हूँ?

में :  वो किसी चीज़ का बहुत बेसब्री से इंतजार कर रही थी।

वो : जानता हूँ डियर, आप मेरे कॉल का ही इंतजार कर रही थी।

फिर उसने मुझसे बिना कुछ सोचे समझे कहा रूचि जी आई लाइक यू वेरी मच।

में : मी टू।

वो : आई लव यू रूचि जी।

में : मी टू बहुत सारा।

फिर हमारी इधर उधर की बातें हुई और अचानक से उसने कहा।

वो : आप बैठकर बात कर लीजिए नहीं तो थक जायेंगी।

में : आपको कैसे पता में चल रही हूँ?

वो : बताऊँ, बुरा तो नहीं मानोगे।

में : अरे आप भी ना, प्यार किया है तो हक़ से बोलिए।

वो : आपके दूध कुछ ज़्यादा बाउन्स हो रहे है, ब्रा नहीं पहनी क्या?

में : हटो आप भी ना, वैसे आपको कैसे पता चला कि मैंने ब्रा नहीं पहनी है?

वो : बस पता चल गया, खैर में कल भी एक सेशन के लिए हॉस्पिटल आऊंगा, कुछ गिफ्ट चाहिए?

में : नहीं, में क्या कहूँ? जो आपको अच्छा लगे वो लेते आना।

वो : ठीक है।

फिर हमने फोन रख दिया, फिर वो अगले दिन हॉस्पिटल आए और अपने साथ एक गिफ्ट भी लाए, लेकिन मैंने उसे उस समय ओपन नहीं किया। फिर मैंने उन्हें ट्रीट करना शुरू किया, तो उन्होंने मेरे बूब्स को ही दबा दिया, में तो ज़ोर से चीख पड़ी और अटेंडर अंदर आया कि क्या हुआ मेडम?

में : कुछ नहीं, आप जाओ और मैंने रूम लॉक कर दिया।

फिर जैसे ही में पीछे मुड़ी तो वो मेरे एकदम करीब थे और मुझे बाहों में ले लिया और कसकर मेरे लिप्स को चूम लिया, वाउ क्या एहसास था? अब मेरे पैर कांपने लगे थे। फिर मैंने उन्हें रोका और जल्दी-जल्दी अपना काम पूरा किया और हॉस्पिटल से निकल गई। अब वो नीचे अपनी कार में मेरा इंतजार कर रहे थे। फिर में उसमें बैठ गई और उन्होंने मुझे उस दिन बहुत किस किए और मेरे बूब्स को कपड़े के ऊपर से ही दबाया। लेकिन बहुत दबाया तो मैंने घर आकर जब देखा तो मेरे बूब्स एकदम लाल हो गये थे और उनकी उंगलियों के निशान थे, अब मैंने शॉवर लिया और खाना खाया और सोने चली गई। तब उनका फोन आया तो उन्होंने पूछा कि मैंने उनका गिफ्ट खोला या नहीं।

(TBC)…….



Comments are closed.






कामवाली नीतू की मस्त चुदाई भाग २


फिर वो बोली कि मेरे पति को पता लग गया तो बहुत प्रोब्लम हो जायेगी साहब। फिर मैंने उससे बोला कि नीतू यहाँ तुम्हारे और मेरे अलावा कौन है? जो तुम्हारे पति को बता देगा और में कौनसा तुम्हें चूत में लंड लेने के लिए बोल रहा हूँ, सिर्फ़ थोड़ी देर बस ऊपर-ऊपर से मज़ा दे दो प्लीज़। फिर वो थोड़ा शरमाने लगी और सर नीचे कर लिया। फिर मैंने जल्दी से मौका देखते हुए उसके बूब्स को फिर से पकड़कर दबाना चालू कर दिया और उसके होंठ ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा तो नीतू की साँसें तेज़ होने लगी और में उसके बूब्स को मसल रहा था और उसकी साँसों की तेज़ी से उसके बूब्स खुद ऊपर नीचे होकर बयान कर रहे थे। फिर मैंने जल्दी से मेन दरवाजा बंद कर दिया और उसका सूट ऊपर उठाकर उसके दोनों बूब्स ब्रा से बाहर निकालकर निप्पल पर जीभ फेरने लगा, अब नीतू धीरे-धीरे तड़पने लगी और आआहह आहह मत करो साहब बोलने लगी।

Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex

फिर मैंने थोड़ी देर उसके निप्पल ऐसे ही चूसे और फिर धीरे-धीरे अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर फेरना चालू कर दिया। अब तो वो ज़ोर-ज़ोर से बोल रही थी, ओहह्ह्ह साहब मार डालोगे क्या? आआअहह उफफफफफ्फ़ और ये सब बोलते-बोलते ही मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाने लगी। फिर मैंने करीब 15-20 मिनट तक उसके बूब्स चूसे और जब मेरी नज़र उसके बूब्स पर पड़ी तो वो एकदम लाल हो चुके थे। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी सलवार उतार दी तो वो मना करने लगी। मैंने उसे फिर से समझाया कि में लंड चूत में अंदर नहीं डाल रहा हूँ सिर्फ़ उंगलियाँ ही डाल रहा हूँ तो वो मान गयी। फिर मैंने उसकी चूत में उंगली डाली तो देखा कि उसकी चूत से पानी झड़ रहा था। फिर मैंने उंगली अंदर बाहर करनी चालू कर दी, अब रूम में सिर्फ़ आआहह ऊऊऊऊऊओह चोद डालो मुझे, फाड़ दो मेरी चूत, जैसी आवाज़ें ही आ रही थी। फिर मैंने उसे बोला कि मेरा लंड चूसो तो वो मना करने लगी और बोली कि छी छी ये भी कोई चूसने की चीज़ है साहब।

फिर मैंने अपना लेपटॉप चालू किया और ब्लू फिल्म चला दी, अब नीतू ने जब फिल्म में लंड चूसते हुए देखा तो वो मान गयी और मेरे लंड से खेलने लगी। अब में सोफे पर बैठा था और वो मेरी दोनों टाँगों के बीच में नीचे बैठकर मेरे लंड से खेल रही थी। फिर मेरे फोर्स करने पर उसने लंड मुँह में लिया, ऊऊऊहह फ्रेंड्स में आपको बता नहीं सकता कि उस टाईम मुझे कितना मज़ा आया होगा। बस आप लोग ये समझ लो कि में जन्नत में था। फिर थोड़ी देर वो मेरे बॉल्स से खेलती रही और लंड चूसती रही और फिर मेरा पानी निकलने ही वाला था। फिर मैंने सोचा कि क्यों ना आज इसके मुँह में ही पानी छोड़ दूँ? तो मैंने उसे बताया नहीं और उसके मुँह में ही अपना सारा गर्म-गर्म लंड का पानी छोड़ दिया। फिर वो एकदम से उठकर वॉशबेशिन की तरफ भागी और खाँसी करने लगी। फिर में भी धीरे से उठा और उसके पीछे जाकर उसकी नंगी भारी-भारी चौड़ी गांड पर अपने दोनों हाथ रख दिए और धीरे-धीरे दबाने लगा।

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ना चालू किया तो नीतू तो बिल्कुल पागल होने लगी और ज़बरदस्ती मेरा लंड अपनी चूत में डालने की कोशिश करने लगी। फिर मैंने भी सोचा कि यही सही मौका है और मैंने धीरे से उसकी चूत पर लंड का टोपा रखा और ज़ोर से एक शॉट मारा तो मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में चला गया। फिर वो एकदम से चौंक गयी और ऐसा लगा जैसे कि उसे साँस आना बंद हो गया हो। फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को थोड़ा फैलाया और दोबारा से एक जोरदार झटका मारा, आआहह ओहह्ह्ह्हह साहब, आप तो आज सच में ही मेरी चूत का भोसड़ा बना डालोगे, थोड़ा आराम से डालो ना।

फिर मैंने उसे थोड़ा आगे की तरफ और झुका दिया और वो भी वॉशबेशिन पर अपने हाथ रखकर झुक गयी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में लंड अंदर बाहर करना चालू किया, अब उसे भी मज़ा आने लगा और रूम में भी पच पच, फच फच की आवाज़ें आने लगी। फिर थोड़ी देर तक ऐसे ही चुदाई करने के बाद हम दोनों बेड पर आ गये और वो मेरे लंड पर चढ़ गयी और अपनी गांड को ज़ोर-ज़ोर से आगे पीछे हिलाने लगी। फ्रेंड्स मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि ऐसे ही चुदाई करते-करते मैंने अपने लंड का सारा माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया। उसके बाद हम बाथरूम में एक साथ शॉवर के नीचे नहाने लगे तो मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा। फिर मैंने नीतू से कहा कि इस बार गांड में डालने दो तो वो मना करने लगी और बोली कि अब अगली बार कर लेना ।।

धन्यवाद …

Kamukta Hindi sex story Kamvali ki chudai, Chudai Kahani, Chudai ki kahani, Desi Sex Videos, Free Indian Sex Videos, gujarati sex story, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, hindi sex video, Indian Sex Stories, Kamukta, kamukta story, Sex samachar, suck sex