End of a Long Week Time for Fun


The week slowly ground to a end on Friday afternoon. Chase had finished his day early at work and found his way home and jumped in the shower. His life had been very different after his surgery. Before his surgery he had worked hard with Brianna and managed to lose a good amount of weight and was really proud of the way he was turning out. After his surgery when he was cleared he started going back to the gym. He loved it very much and the new and interested looks that Brianna had been giving him and he was very excited to see himself in the steamy mirror as he exited the shower. He took his towel and wiped the steam away from the mirror and stared back at himself through his own brown eyes. Just then a thought entered his head, he smiled to himself as he picked up his razor and trimmed back his beard to give him a more chiseled look and thought to himself “Perfect, now I have to get to work.” He sauntered into the bedroom and let his towel hit the floor. The cool crisp air caressing his body felt very nice to him. He searched through his closet for the perfect thing to wear, tonight was going to be a great night. When he finished getting ready he looked himself over in Brianna’s full length mirror. He was very pleased with his choice of outfit. He had chosen a nicer patterned button up with an undershirt that was just low enough to show just the right amount of chest hair. For pants, he choose a new but worn looking pair of jeans with an almost acid washed look to them, they fit him nicely and hugged his waist just right to show off his features. He next put on a nice pair of loafers and walked through the house to get to work. He walked to the living room and put on his favourite house work mix and got started. He started by making sure that the house was spotless, then went out to their garden and picked a bouquet of roses, lilies, daisies and tulips, only the most perfect flowers would do for her, and took them into the house and put them in her favourite crystal vase. Pleased with how the house looked, and now smelled with the flowers inside, he got to work on dinner.

Dinner was his favourite part, he loved to cook almost as much as he loved her. He sat and thought about what would be perfect for her. He decided now would be the time to properly surprise her. He got started with the first course, a sushi appetizer. He had been watching how two’s and practicing in secret for some time and was ready to wow her. He prepared a few simple rolls to go with the rest of dinner and sat them in the fridge to stay fresh. With the appetizer done he turned his attention to the soup. This too was going to be her favourite. He pulled out the big pot and began peeling potatoes as the water came to a boil. After boiling for a while he removed all of the water and added cream and began to blend the potatoes into a fine soup then added cheese, scallions, and a touch of pepper to taste and the soup was complete. He decanted the soup into the chafing dish and sat it on the buffet ready to bring to the table. Next he set his eyes on the main course. For this he had to be careful. He had to get this just right or everything would fall apart including his ability to breathe. For himself himself and her he prepared a simple butterflied filet mignon with a creamy peppercorn sauce. Brianna’s steak, however, got a special surprise. Earlier in the week he had proper southern water shrimp flown in from the coast and had his butcher clean and de-vein them. Chase then applied gloves and a mask and grilled the shrimp to perfection and added them to the top of her steak before applying the creamy peppercorn sauce. For sides, he went simple. Steamed broccoli and mashed garlic potatoes with cheese. With dinner ready and resting in the lower oven in their serving dishes to stay hot and ready he began to finish up and make desert. For dessert he opted for something super simple. He made two cupcake sized brownies, and then filled them with a hot chocolate syrup and would top them with ice cream right before serving, and placed them in the oven to stay warm with dinner.

Show time. Chase smiled as he heard Brianna’s car pull into the garage. He raced to the living room and changed the music to a slow, soft, romantic album, and then returned to the dining room to retrieve the flowers. Brianna walks into the house and smiles as she hears the music. She walks around the corner and Chase is standing there still in his apron holding the flowers. “Hello beautiful,” he says as he handed her the flowers, “How was work?” Pleasantly shocked, she replies, “It was exhausting but it’s much better now” as she slyly smiles. “Good!” Chase says to her as he removes the apron and ushers her into the living room. She sets the flowers on the coffee table in the living room and sits down next to Chase on the couch and drapes her legs over his. Chase immediately reaches down and removes her shoes and socks and begins to massage her feet. “Oh, thank you honey,” Brianna almost slurs as she begins to relax, “you have no idea how much I needed that.” After sitting and talking for a few minutes Brianna’s stomach growls. Embarrassed, Brianna says “Oh! Excuse me! I guess I’m really hungry, do you want to go out and grab some dinner?” Chase smiles and stands up, “Don’t worry baby, I have go that covered. Wait here.” and leaves her to rest on the couch and enjoy the music. He quickly goes into the dining room and prepares the table. Turns the dimmer down walks back into the living room to retrieve his love. “Come with me.” he says as he takes her hand. She smiles and stands up and fully takes him in. She gives him and hug and looks up into his eyes, “You took a shower when you got home,” she says as she pulls him down for a slow kiss, “and you dressed up. What have you got planned mister?” Chase just smiles and leads her into the dimly light dining room, light dancing on the walls from the flickering candles. “Oh wow,” Brianna says in shock, “Is this all for me?” Chase just continues to smile and pulls out her chair. She takes her seat and he pours her a glass of wine. As he walks away from the dining room toward the kitchen he turns back and says, “Let me go get the appetizers.” He places down the covered plate in front of her then tells her he has a surprise. She smiles as he begins to lift the cover on the plate and she gasps as she sees the neat little sushi rolls on her plate. “Oh my god honey, these look amazing! Where did you get them?” Chase just smiles as he begins to blush, points toward the kitchen, and says “Oh about 20 feet that way. I made them myself. Now you start with those while I go get the rest of the appetizer shash second course” “Course!” Brianna exclaims. “There are courses?!?!?!?” “Yes my love” is all that Brianna hears as Chase disappears back into the kitchen to retrieves the bowls and fills them with soup. As Chase walks back into the dining room with the soup in hand all he can hear is what would be described as sexual noises coming from Brianna as she ate her sushi, and all that Chase could do was smile as he took the now empty sushi plate from in front of her and replaced it with the soup and say “I guess I did good, huh?” Embarrassed Brianna blushes and says, “Oh goodness yes sweetheart, some of the best that I have had! How did you do that?” “Practice my dear.” Chase says as he places the bowl of steaming soup in front of her. When she looked down and saw what was in front of her all she could do was let out an excited squeak. Chase just smiled as he took his place next to her at the table and began to eat as well. It was not long and both parties had consumed their baked potato soup with gusto and Chase collected the dishes and went to the kitchen to retrieve the main course. He opens the double oven and inside everything is still steaming and perfect. He excitedly extracts them and takes them to the table. Once again an audible squeak is heard from Brianna and then a question he knew was coming escaped her lips. “Honey,” she says with an almost shaky voice, “How did you cook shrimp and when did you buy shrimp?” Chase just chuckles and responds, “I cooked them very carefully on the grill and I got them flown up from the gulf this morning to prepare for tonight’s dinner. If you like them I have 10 more pounds in the freezer for you.” Wide eyed, Brianna quickly begins to dig into her steak and shrimp and falls absolutely in love with her plate. The two continued to talk about their days, and flirt profusely as they finished the main course. When both were done Chase stands and begins to remove the plates. “Dear God baby is there more?” Brianna asks. “Just dessert.” Chase responds and then says with a smile, “Unless you don’t want it” “Nooooooo I want it.” Quietly escapes Brianna’s lips, as she settles back down into her chair and sips her wine. Chase returns the plates to the kitchen and then adds the ice cream to the piping hot brownies and returns to the dining room. Brianna looked like she could cry as she looked at the plate in front of her. “It’s beautiful” she says. Chase just smiles and waits for when she began to eat it and discovered the hot fudge filling that was hidden just under the surface. After dinner was complete, he sent her away to the living room with a newly filled glass of wine and then retired to the kitchen to clean up everything.

When he returned to the living room he found a smiling Brianna reading a book, curled up in the corner. She looks up from her reading and says, “Dinner was absolutely amazing and I have no idea how I am going to be able to top that but I am gonna try. But something is still not right, why are you smiling like that?” “Because the night is not over yet” he says slyly with a smile creeping deeper into his face. “Would you like to go see a movie,” Chase begins then violently rips his shirt off as the music changes to a club mix perfect to dance to, “or a show?” Brianna flushes with excitement and then growls under her breath “Oh a show please please please.” Chase then begins his work. Showing off his gym body and dancing for her like she has never been danced for before. Slowly he worked his way around the room, ever returning to just outside her grasp, as he removed his clothing and was down to nothing but a jockstrap, bulge growing the more he danced. “Do with me what you will” Brianna almost slurred, “I want you bad.” Chase didn’t need telling twice as he picked her up and flipped her upside down, her dress fell away and he ripped her panties away with his teeth and began his work as he carried her to the bedroom. By the time their journey was complete, Brianna was already shaking and screaming with pleasure. Chase flipped her back over and laid her gently on the bed. “Take off your clothes,” he commanded, “we have some work to do.” Brianna needed no more prompting. In a swift movement almost faster than he could see, she was laying there waiting on him to ravage her, juices already flowing from deep in her pussy begging him for more. He smiles and he climbs into the bed with her and puts his head between her legs and goes back to work. Slowly and teasingly he begins to nibble at her, kissing and caressing the folds, taking in the musk and taste of his love. With every nibble her entire body shakes, she begs for him to slide in his tongue, a finger, his cock, something, anything, she could not stand it any more. He simply stands up from the bed and tells her “If you want me, you have to work for it, I don’t come cheap” And with one swift motion she jumps from the bed and tackles him to the floor. Laughing he picks her up and throws her back on the bed, but she is having none of it. She grabs him by the shoulders and throws him back on the bed, runs to the closet and ties him down tight. She reaches down and rips the jockstrap from his hips freeing his large throbbing cock. As soon as the cool air of the bedroom hit it, it stood straight up saluting her beauty, begging to be a part of her. “Oh someone’s happy,” Brianna says with a smile as she reaches down and grabs the base of the shaft and slowly slides it into her mouth and begins to work up and down the shaft. Chase struggled against the ropes as he writhed in the pleasure her head bobbed up and down taking in almost all of the length of his throbbing member. Slowly she withdrew him from her mouth and turned her attention lower on his body. She worked her way down the shaft kissing and licking her way to her destination. She began to work his shaft up and down as she sucked and licked his balls preparing them for their job to come. Slowly she continued to work her way down and decided to have him turn over and get on his knees and tied him back down to the bed. She began to wonder if she should pull out her own surprise that she had but decided to think a little more on the matter. She went back to work on what she knew would drive him almost as crazy as he drove her before stopping. She spread his ass cheeks apart and slowly took her tongue and licked from the base of his cock, across his balls and up his taint, stopping only when she had reached his hole and teased it with her tongue. Faint moans could be heard coming from his face buried in the bed. “Please put something in” he cried, “Make me feel good baby” Brianna laughed at this because she had begged him for exactly the same and he had just laughed and walked away, but Brianna was the kind of woman to get what she wants as well as give what she wants others to have. So she decided it was time to get out her surprise. She went over to her closet and reached into the back and got out a decent sized box and removed its contents. She had found this online some time ago and got it and didn’t know when to bring it into the fray but now was definitely the time. She fastened the harness to her waist and then slid part of the device into her. She moaned softly as it slid in. Oh yeah she thought, this is going to be amazing. What Brianna had purchased was normally for lesbian couples but she thought that it would work just fine for them. The way it worked was mostly like a normal strapon but there was a part that also went inside of her so when she trust it would penetrate both him and her, a win-win scenario in her mind. She slowly opened and relaxed his hole using one, then two, then three fingers. Waiting on him to get used to the last before going on to the next. Brianna then leaned down to the moaning Chase on the bed and whispered in his ear, “Ready for your surprise?” Chase couldn’t even respond, he was in heaven from the stimulus to his prostate as well as his shaft. Slowly she pressed the head of her cock against his ass and it slowly began to slide in. A muffled moan could be heard coming from the bed and she slowed because she was unsure of whether it was pleasure or pain. “A faint dont stop” was heard from the bed in front of her so she continued. She slid all the way in the slowly started to slide out. She couldn’t believe how this felt for her. She had the pleasure of the other end of the device inside her and the power that she felt being in control. After a few minutes she came for the first time, bucking and thrusting she slammed her hips hard into him and buried it deep inside and it buried deep inside her. She almost passed out from the pleasure. She slowly slid out of him and removed the ropes and the strapon. He slowly flipped over and saw what she had in her hands. “What a dirty little girl you are” he said through a sly smile, “now you have to be punished for hiding that from me all this time.” She swayed in her post orgasm bliss but words that did not sound like her own came from her mouth. “Oh yes baby, punish me please. I have been a very bad girl.” He needed no other prompting than this. He threw her back onto the bed and dove back face first to prepare her for round two. Slowly he kissed and nibbled at her, this time he took the time to suck and nibble on her clit and she screamed in pleasure as she wrapped her legs around his head holding him tight against her dripping pussy and came again this time he felt the welcoming flood of hot cum from her body as she squirted like a fountain. She screamed at the top of her lungs in pleasure and he took his opportunity to continue, as long as he kept stimulating her she would keep cuming. Quickly he flicked out his tongue and slid it deep inside her and drug it back and forth across her g spot. Her body flailed as she continued to cum and continued to squirt. Shaking like a seizure while he continued to nibble and lick his way into her. When he finally stopped she relaxed her legs and he was free to do what he wanted because she could not move to stop him. He spread her legs apart and slowly slid the tip of this now rock hard throbbing cock against the opening of her pussy and she jerked like she had been struck by lighting. “What’s the matter?” he said, “Can you not take your punishment?” “Fuck me” she screamed, “Fuck me so hard i will never walk again!” He slowly entered her and felt the steaming hot lips of her soaking wet pussy begin to pull and tug at his cock begging for more of him to come inside. When he had slid all the way inside her he slowly began to thrust in and out. Brianna’s eyes rolled into the back of her head as she started to moan. “Harder!” she begged, “Faster!” Slowly Chase picked up his pace until his hips were nothing but a blur. The only sounds that could be heard was the moaning of Brianna and the slapping of skin on skin. “Fuck me” Brianna screamed as she came time and time again, “Please baby you know what I want” Chase knew all too well what she wanted and she was going to get it and get it and get it. Just when she thought she was going to pass out from the pleasure Chase asks “Are you ready for it baby?” “Oh God yes” she screamed as she came again, “Fill me up” she moaned. Chase with one final thrust, buried his pulsing cock deep inside her and came. Hot silky ribbons of cum flowed out into her. With every heartbeat more flowed into her. Brianna could feel the heat and tingle as his seed entered her body, and she came harder than she has ever came before, locking her legs around him holding him deep inside her until she was ready to let him go. He managed to break free though and picked her up. To Brianna’s surprise he was still rock hard and was still going. Walking out of the bedroom holding her to his chest and thrusting with every step he laid her on the dining room table. Standing he could get the full range of motion out of his hips and used that to his advantage. “No,” she slurred, “why?” “Cause I am not nearly done with your punishment yet dirty girl” he replied. He started again slowly and at that point Brianna no longer cared. She was in pure ecstasy, every thrust from him was another wave of pleasure. Gradually he picked up speed and what seemed like an eternity of cumming he came again. And just like the last time she felt rope after rope of his hot seed sliding into her body and she loved every second of it. He was filling her up and he meant it and she could not complain. “We’re still not done yet” he hissed as he picked her up yet again and carried her to his recliner in the living room and sat down. She was able to sit neatly in his lap and soon realized why he had sat her there. In this position he could slide in and out more easily and the angle of his cock caused every thrust to pound her g spot. With every other thrust she squirted, soaking everything around them and soaking them themselves. She was scared she was going to start getting dry from coming so may times but those fears were put aside as his cum started to shift down and became the perfect hot sticky lube for them to enjoy. Over and over again he slid himself in and out of her. Over and over again she came. Then he grabbed her by the hips and slammed her onto him deeply and came again, filling her up with more of the hot semen she wanted so badly inside. Brianna turned to Chase and asked if they could go back to the bedroom and he complied. He picked her up still inside of her and once again carried her to their destination thrusting with every step. Brianna could show no other emotion other than pure bliss as drool escaped her mouth and rolled down his hairy muscular chest. He gets her to the room and he lays down flat on the bed and tells her it’s her turn to make him cum. Confused Brianna slowly gains her composure and begins to ride him up and down like the only way a cowgirl can ride her stallion. With every wave of pleasure she dug into his chest with her nails and arched her back. The closer she got to what she thought was her final climax the further she leaned into him and toward his chest. Then, without warning, Chase shifted his position slightly and with every buck of her hips she was riding her g spot along his shaft and with ever time she bottomed out on his cock her clit hit his pubic bone. She was in heaven. She moaned and screamed as she came and bit down onto his chest to keep herself steady and to keep from passing out. Chase, feeling this bit, was thrown over the edge again and came once again. Emptying his balls into her one final time or so he thought. He slowly turned them over and slid out of her. He tells her that he has at least one more orgasm for her before they are done. He bends down and starts eating the cum out of her still tingly pussy. Brianna cannot contain herself anymore and throws him on his back and sits her pussy down on his face and stuffs his cock in her mouth. By god if she was going to cum again so was he. Chase tongued and nibbled and worked almost every drop of cum from inside her, causing her to cum and cum and cum, by the time that he had finished his task of cleaning her up she couldn’t hold herself up anymore and put her entire body weight on his face. He loved this and started thrusting his hips trying to get her to go faster, trying to cum, trying to finish what he had started. With one final thrust he came right down her throat. Shot after shot, went straight down and into her. With Brianna’s full weight on his face his tongue was able to go deeper than ever and he lapped up the sweet sweet pussy juices that he had been milking out of her all evening and with one final wave of pleasure Brianna came and passed out. He slowly slid his tongue out of her and rolled her onto her side where he then slid his now softening cock out of her mouth and began the cleanup process. “Fuck it” he thought to himself, “we can finish cleaning up in the morning when we take a shower before round 2.” and curled up behind her and went off to sleep.

The end.


Bhabhi Ke Saath Dahi Snan

mumbai-university-college-girls-mms-pictures11

Hi, ur rihan is back with another super hot story between me & my bhabhi, ye story hai mere aur meri bhabhi ke beech kaise hum dono ne dahi snan kiya uske baare mai, fir mai apni mom se bola ki mai ja raha hu, to wo kehne lagi jaa beta apna khayal rakhiyo aur mai ghar se bhabhi ke ghar ki taraf ke liye nikal pada, thodii dur jate hi mene bhabhi ko phone kara ki mai aa raha hu to khsuh hokar kehne lagi jaldi tumare bin raha nahi jata, fir mene raaste se 3 kilo dahi le li aur chal diya, aur thodi si der mai mai uske ghar pahuch gaya, mene door bell bajayi aur niche aakar ke darwaja khola aur mai use dekhta hi reh gaya wo bilkul lal colour ki saree pehne hue thi, bilkul nahayi dhoyi hoto lal colour ki red lipstick ye sab dekhkar to wese hi mera land khada ho gaya, aur usne apna ek hath badaya aur kehne lagi aao mere saajan aap upar betho mai jeene ki kundi laga kar aati hu.

Fir mai upar jakar uske bedroom mai beth gaya aur wo thodi der mai upar aayi, aur aate hi mere pero ke paas beth gayi aur kehne lagi kya aadesh hai mere swami, mai has pada aur use kehne laga ye aaj kya ho gaya hai tumhe, to wo kehne lagi aaj hamari suhagraat hai na swami fir mene use uthaya aur uske lal lal hoto ko jor jor se chusne laga, aur ek haath uski sarree mai dalke uski chut mai ungli karne laga wo ab full garam ho chuki thi, bahut hi tez tez siskariya lene lagi thi wo, ahhhhhhh ahhhhhu ahhhhhh ahhhhh ammmmm ammmm ammmm ammmh aaaaaah uahhhhh uuuuuu uuuuuu uuuuh aaaaaa aaaaaa karke fir mene uski saree kholi aur fir peticot fir blouse aur ant mai uski bra bhi utaar feki, ab wo mere saamne puri nangi thi aur mai to dekh kar hairaan reh gaya uski chut par ek bhi baal nahi tha, jab mene uski chut par haath fera to bada acha sa laga mene kaha subah to bahut badi badi jhaante thi tumari chut par to wo kehnen lagi aaj meri suhagraat hai na isliye mene jhaante saaf kar li jisse mere sajan aur bhi jaada khush ho jaaye.

Uski ye sab baate sunkar mai aur bhi jaada mera land tight ho gaya mai paaglo ki tarah se use chumne laga uske hoth to aaj kuch jaada hi meethe lag rahe the, mai uske hoto ko badi jor jor se chuse ja raha tha jisse puch puch ki awaaz pure kamre mai gunj rahi thi, ab mene bhi dhire dhire apne saare kapde utaar diye aur mene bhabhi ki gaand ke niche do takiya laga di jisse uski fuli hui chut upar ko aa gayi, ab mai nanga hi utha aur uski chut ke dono muhane ko apne haatho se khola aur puri jeebh andar daalkar uski chut chaatne laga jisse wo aur bhi pagal hokar idhar udhar uchal rahi thi, aur siskariya to ab aur bhi tez tez nikal rahi thi ahhhh ahhhhhh ahhu ahhh hhhhh hhhmm mmmm mmm mmmm mmmh aaaaaah uahhhhh uuuuuu uuuuu uuuuuh aaaaaa aaaaaa karke, fir mai utha aur kitchen mai gaya jo mai dahi lekar aaya tha use le aaaya aur uske pure badan par gira di wo kehne lagi kya kar rahe ho mene kaha bilkul chup bas dekhti reh, fir mene saari dahi uske badan pe laga di.

Aur fir use chaatne laga jisse wo aur bhi jada pagal ho uthi, thodi si dahi bach gayi thi mene usse kaha aise karke apni chut kholo fir usne apne haatho se apni chut ka mu khola aur ek chammach lekar mene wo dahi bhabhi ki chut mai bhar di, dahi ekdam thandi thandi thi jis wajah se jaise wo mene bhabhi ki chut mai daali to usne ek jor se siskaari li aaaaaaaaa ahhhhh ahhhhh aaahhhh ahhhhhh aahhhhh aahhhhh aaahhhhh aur palang ki chaddar ko apne haatho se bheechne lagi, fir mene usko chaatna start kiya aur pehle uski aankho par se fir uske maathe par se fir uske hoto par se uske hoto par mene jaada time lagaya kyoki ek to uske gulabi hoth aur upar se khatti dahi sex ka maza triple chaval kar rahi thi, fir uske chuche fir uske pet pe jab mene chaatna start kiya to usne mera sir pakad kar daabane lagi aur kehne lagi i love u, mat tarsaao kuch karo na please mai pagal huye jaa rahi hu meri chut ki aag tumne bahut jaada bada di hai.

Fir dhire dhire mene uska pura badan chata aur ant mai jab uski chut ka number aaya to jaise hi mene uski chut mai jeebh daali mai aapko shabdo mai nahi bata sakta uski siskaari kitini tez nikli ek to khatti dhai aur uski chut se nikalta paani dahi ko jaada hi khatta bana raha tha, fir mene use palang ke sahare khada kiya aur mai niche aa gaya jisse uski chut ab bilkul mere mu ssamne thi, wo palang par khadi thi aur mene uski dono taange chodi kari aur uski chut ko kholkar dono ungliya daalkar uski chut ko khol ke uski chut chaat chaat ke uski chut se saari dahi chat kar di, ab wo itni wasna mai bhar chuki thi ki khud hi apni ungli apni mai nadar baahar akrne lagi aur chillane lagi ahahah ahahhh ahhhhh ahhhhh karke, ab mene bhi socha der karna bekaar hai aur apna land apne haath mai pakad hilaya aur uski dono taango ko apne kandhe par rakha aur ek jor ka dhakka maara aur pura ka pura land uski chut ke paani se geela hone ke karan ek hi jhatke mai andar chala gaya.

Aur wo niche se khud apni gaand uchaalkar mujhe ishaare karne lagi ke laagao dhakke fir dhakke lagane start kiye aur pat pat ki awaaz ke saath mai use chodne laga fir mene use upar kiya aur mai niche aa gaya aur use apne upar chada liya aur use dhakke lagane ko kaha ab wo mera land apni chut mai lekar khud hi jor jor se uchalkar land apni chut mai lene lagi, uske mote mote chuche badi hi tezi se uchal rahe the aur unhe pakad kar mai jor jor se bheech raha tha wo apni aankhe band land apni chut mai liye khub uchal rahi thi, ab mene use ghodi ki tarah jhukaya aur piche ki taraf se land daalkar uski chut ko chodne laga pure kamre mai pat pat aur fach ki awaaz goonj rahi thi dono is jabardast chudia ke kaaran paseene mai naha chuke the, fir thodi der baad mera nikalne ko hua aaj mene bhabhi ko bataya nahi aur uski chut mai saara veerya chod diya aur wo kehne lagi andar kyo nikaal diya mene kaha kyo darr rahi ho aao pishaab kar do saara maal baahar nikal jaayega.

Aur mene use nangi hi godi mai uthaaya aur use bitha diya aur use kaha ab pishaab kar do to wo jor lagane lagi aur pishaab karne lagi jab wo pishaab kar rahi thi to mene uski chut mai ungli daalkar saara maal baahar nikaalne laga,jab usne pishaab kar liya to wo khadi hui aur dekh kar kehne lagi dekho kitna saara maal tha tumara fir puri raat mene use daba ke choda aur uski gaand bhi mari aur hum puri raat nahi soye puri raat bas sex sex aur sex hi chalta raha.

चूत और गांड मारने का शौक

मेरे नाम अमित ! मैं आप लोगों को अपनी जिंदगी की सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ कि कैसे मुझे चूत और गांड मारने का शौक लगा।

हमारे ही घर में किराएदार रहते थे विक्रम और सुनयना। विक्रम कॉलेज में पढ़ता था और सुनयना एक कंप्यूटर कंपनी में जॉब करती थी।

बात उन दिनों की है जब मैं ग्यारहवीं कक्षा में था। परीक्षा के लिए कोचिंग की जरूरत पड़ी तो मैं विक्रम से पढ़ने जाने लगा। यह कहानी देसीएमएमस्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे रहे । दोपहरर के समय विक्रम अकेला होता था, खाली होता था तो उसने मुझे 3 बजे पढ़ने आने को कहा। मैं स्कूल से दो बजे आ जाता था तो मैं रोज 3 बजे विक्रम के पास जाने लगा।

कुछ दिन तो ठीक-ठाक गुजरने गए मगर कुछ दिन बाद मुझे लगने लगा कि जैसे वो जान-बूझ कर मुझसे चिपकता है, मेरे पास आता है, मेरा लण्ड छूने की कोशिश करता है।

मैं अनदेखा करने लगा मगर एक दिन मुझे नींद आ रही थी, मैं पढ़ते-पढ़ते सोने लगा।

विक्रम ने कहा- क्या हुआ?

मैंने कहा- नींद आ रही है !

उसने कहा- यहीं सो जाओ !

मैं उसके पलंग पर ही सो गया। मैं काफी थका हुआ था तो मुझे नींद आ गई। सोते-सोते मुझे मस्ती सी छाने लगी, मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि विक्रम ने मेरी पैंट उतार रखी है और मेरे लण्ड के साथ खेल रहा है, कभी चूस रहा है, कभी चूम रहा है। मुझे अच्छा लग रहा था, मस्ती छा रही थी।

तभी उसने मेरा पूरा लण्ड अपने मुँह में ले लिया, लण्ड उसके गले तक चला गया और वो उसे ऊपर-नीचे करके चूस रहा था। मेरी मस्ती इतनी बढ़ गई थी कि मैं कह नहीं सकता। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।तभी मेरा सारा बदन अकड़ने लगा और मेरे लण्ड से एक पिचकारी की सी छूट गई। मेरा लण्ड विक्रम के मुँह में था वो मेरे लण्ड का सारा पानी पी गया।

तभी मैं उठ गया, मैंने कहा- आप क्या क़र रहे हो? आपने मुझे नंगा क्यों किया? मेरे लण्ड से क्या कर रहे थे?

वो मुझे बोलने लगा- किसी से कुछ मत बोलना ! गलती हो गई ! अब ऐसा नहीं होगा, किसी को पता लगेगा तो मेरे बड़ी बदनामी होगी, किसी से कुछ मत कहना।मैं अपने घर आ गया, मैंने किसी से कुछ नहीं कहा मगर मुझे बार-बार वो उसका मेरा लण्ड चूसना याद आ रहा था। मेरा लण्ड खड़ा हो रहा था, मेरा मन कर रहा था कि वो इसे फिर चूसे !

मैंने न जाने कैसे रात और दिन काटा।

अगले दिन फिर उसके पास तीन बजे गया, वो मेरे सामने हाथ जोड़ कर कहने लगा- किसी से कुछ मत कहना !

मैंने कहा- एक शर्त है !

वो बोला- क्या ?

मैंने कहा- मेरा लण्ड दोबारा चूसो ! मुझे अच्छा लगा था।

वो खुश हो गया।

मैंने अपनी पैंट उतारी, उसने मेरा लण्ड हाथ में लिया। मेरा लण्ड पहले ही खड़ा था, उसका हाथ लग कर और तन गया।

उसने पहले लण्ड को चूमा, फ़िर बोला- तुम आराम से बैठ जाओ, मैं इसे प्यार करता हूँ।

वो मेरा लण्ड फिर चूसने लगा। मुझे अच्छा लगने लगा।

उसने फिर चूस-चूस के मेरे लण्ड का पानी निकल दिया और पी गया।

फिर हम दोनों साथ में बातें करने लगे, वो बोला- तुम्हारा लण्ड बहुत बढ़िया है, कम से कम 8 इंच का होगा। मैंने आज तक ऐसा लण्ड नहीं देखा, इतना लम्बा और मोटा !

मैंने कहा- सबका ऐसा ही होता होगा?

वो बोला- नहीं, तुम्हारा लण्ड खास है !

फिर उसने अपना लण्ड खोल कर दिखाया। उसका लण्ड मैंने हाथ में लिया, वो मेरे लण्ड से छोटा और पतला था।

वो बोला- देखा, तुम्हारा लण्ड एकदम मस्त है ! बिल्कुल सही लम्बाई और मोटाई ! वरना लण्ड या तो मोटे होते है या छोटे ! तुम्हारा लण्ड देखकर तो मेरी गाण्ड में खुजली होने लगी है। मेरी गाण्ड मारोगे?

मैंने कहा- मैंने कभी नहीं मारी !

वो कहने लगा- मैं सिखा दूँगा, बहुत मज़ा आएगा !

मैंने बोला- ठीक है !

वो बोला- अब तुम लेट जाओ ! मैं करता हूँ।

मैं बिस्तर पर लेट गया, वो पहले तो मेरा लण्ड चूमने लगा, फिर चूसा ! मैं बार-बार खड़ा हो रहा था तो वो बोला- लेटे रहो !

फिर उसने मेरे को माथे से लेकर चूमना चालू किया, मेरे गालों को, मेरे होटों को, मेरी गर्दन को, मेरे कानों को, मेरी छाती को, मेरे पूरे बदन पर उसके हाथ घूमने लगे। यह कहानी देसीएमएमस्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे रहे । वो अपनी छाती मेरे लण्ड के पास रगड़ने लगा मुझे चूमते हुए !

मुझे एक अजीब सी मस्ती चढ़ रही थी। वो मुझे सर से लेकर पैरों तक न जाने कितनी बार चूमता रहा मेरे बदन को अपने बदन से रगड़ते हुए !

मुझे जैसे लगने लगा कि मेरा ऐसे ही निकल जायेगा।

उसने मेरा लण्ड फिर मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

मैं कहने लगा- ऐसे ही निकालोगे या गाण्ड भी मरवाओगे?

वो बोला- रुको !

फिर वह तेल की शीशी लाया और मेरे लण्ड पर बहुत सारा तेल डाला, उसे चिकना किया, फिर अपनी गांड में तेल डाला, अपनी गांड को बिल्कुल चिकना कर के बोला- अब तुम मेरे ऊपर आओ और अपना लण्ड मेरी गांड में डालो !

वो घोड़ी बन गया। मैं उसकी गांड में अपने खड़े हुए लण्ड को डालने लगा मगर मेरा लण्ड उसकी गांड में जा ही नहीं रहा था।

वो बोला- तुम लेटो ! मैं लेता हूँ।

मैं लेट गया, वो मेरे लण्ड के ऊपर मेरा लण्ड अपनी गांड के छेद पर लगा कर एकदम नीचे हुआ।

मेरे लण्ड में काफी दर्द हुआ उसके भी ! दर्द की वजह से मेरे आँसू निकल आये। मेरा लण्ड पूरा उसकी गांड के अंदर था। कुछ देर बैठने के बाद वो धीरे-धीरे ऊपर नीचे होने लगा। मेरे लण्ड में थोड़ा दर्द हुआ, फिर मज़ा आने लगा। फिर मैं भी उसकी गांड में धक्के लगाने लगा।

वो बोला- और जोर से ! और जोर से !

मैं तेज तेज उसकी गांड मारने लगा। फिर एकदम मेरा सारा बदन अकड़ा और मेरा माल उसकी गांड में निकल गया।

वो भी थक चुका था। मैंने अपना लण्ड उसकी गांड से निकाला, उसने मुँह में लेकर मेरा लण्ड साफ किया। फिर हम कुछ देर तक वहीं पड़े रहे।

वो बोला- आज मज़ा आ गया ! ऐसा लण्ड आज तक नहीं मिला !

फिर मैं अपने कपड़े पहन कर घर आ गया।

अब तो रोज मैं उसकी गांड मारने लगा। मगर एक दिन उसकी बीवी सुनयना जल्दी घर आ गई, उसने मुझे उसकी गांड मारते देख लिया और कमरे आ गई।

हम दोनों बिल्कुल नंगे थे, मेरा लण्ड तना हुआ था।

उसने मेरा लण्ड पकड़ा, बोली- बहुत अच्छा लण्ड है !

और विक्रम से बोली- तुम अकेले ही ऐसे प्यारे लण्ड का मज़ा लोगे? मुझे भूल जाओगे?

और वो मेरा लण्ड चूसने लगी।

भाबी की कमाल की चूची

हैल्लो दोस्तों, यह मेरी पहली कहानी है और यह एक सच्ची घटना है. में उस समय 12वीं कक्षा में पढ़ता था और यह मेरी पहली चुदाई थी और इससे पहले में वर्जिन था और यह मेरी लाईफ की सबसे अच्छी चुदाई है.

दोस्तों में एक ठीक ठाक दिखने वाला 21 साल का लड़का हूँ और मेरे लंड का साईज़ 8 इंच लंबा है, जो किसी भी औरत को चोदकर संतुष्ट ही नहीं बल्कि पागल भी कर सकता है. यह घटना उस वक़्त की है, जब में 12वीं में था और मुझे मेरी ज़िंदगी का सबसे हसीन पल जीने को मिला.
दोस्तों मेरे घर के सामने एक भाभी जी रहती है, जिनका नाम पिंकी था और उनकी एक चार साल की लड़की थी और उनके पति किसी सरकारी ऑफिस में नौकरी करते थे और वो दिखने में मुझे बहुत अच्छी लगती थी, जैसे कि एकदम सेक्स के लिए ही बनी औरत हो और में हमेशा दिन रात उन्हे चोदने के सपने देखा करता था और फिर एक दिन यह मेरा सपना सच भी हुआ.
दोस्तों यह बात तब की है, जब में उनसे गणित की ट्यूशन पढ़ता था और में उनको देखकर मस्त हो जाता था, क्योंकि उनके फिगर का साईज 36-34-38 था और क्या मस्त बड़े बड़े बूब्स थे उनके. वो ऐसे लगते थे कि अभी ब्रा को फाड़कर बाहर निकल आएँगे और गांड तो बस पूछो मत, एकदम चौड़ी थी. उसे जब भी देखो तो चोद चोदकर फाड़ डालने का मन करता था. फिर में हर रोज़ दोपहर के 2 बजे उनके यहाँ पर पढ़ने जाता था, लेकिन मेरा मन तो बिल्कुल भी पढ़ाई में नहीं था, में बस उन्ही को घूरता रहता था.
फिर वो जब भी मुझे कोई भी सवाल समझाने के लिए झुकती थी तो में उनके बूब्स के बीच की दरार और बूब्स के उभार को देखता और हर रोज़ घर पर जाकर उनके नाम की मुठ मारा करता था. फिर ऐसे करते करते कुछ दिन बीत गये और मेरे एग्जाम करीब आ गये और मेरे प्रीबोर्ड में बहुत कम नंबर आए थे तो उस समय घर पर पापा ने मुझे बहुत डांट लगाई और भाभी से मेरी शिकायत की, उन्होंने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो इसका क्या होगा? यह फेल हो जाएगा और जब में भाभी के यहाँ पर ट्यूशन गया तो भाभी ने भी मुझे बहुत डांटा और कहा कि तुम कभी नहीं सुधरने वाले, लेकिन में तो उनके बूब्स देख रहा था, जो कि बार बार हिल रहे थे और बाहर आने को एकदम तैयार थे, लेकिन तभी उन्होंने मुझे ज़ोर से एक थप्पड़ लगा दिया और में वहां से गुस्से में बाहर चला गया और दो तीन दिन उनके यहाँ पर ट्यूशन नहीं गया और वो मुझे बार बार कॉल करती रही, लेकिन मैंने उनका कॉल नहीं उठाया.
एक दिन दोपहर को उनका मैसेज आया कि तुम अभी मेरे घर पर आओ तो में उनके घर पर चला गया, उन्होंने मुझे सोफे पर बैठने को कहा और वो मेरे लिए कोल्डड्रिंक लेकर आई और फिर वो मुझे बहुत प्यार से समझाने लगी कि अगर तुम पड़ोगे नहीं तो तुम्हरा क्या होगा? और तुम जिन्दगी में आगे कैसे बड़ोगे?
में : में पढ़ना चाहता हूँ, लेकिन पढ़ नहीं पाता हूँ और में इसके आगे आपको बता भी नहीं सकता.
भाभी : क्यों तुम्हे क्या कोई परेशानी है तो प्लीज मुझे बताओ?
में : हाँ है, लेकिन आप मेरी परेशानी को नहीं समझोगे?
भाभी : ऐसा क्यों? बताओ ना, में क्यों नहीं समझूँगी?
में : नहीं, में अगर आपको बताऊंगा तो आप मुझे मारोगी.
भाभी : नहीं, में नहीं मारूंगी, अब बोलो भी?
में : वो में आपसे पप..प्यार करता हूँ और आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो भाभी और आप एकदम हॉट और सेक्सी हो, में आपको देखकर एकदम आप ही में खो जाता हूँ और में हर वक़्त आपके बारे में सोचने लगता हूँ.
तो दोस्तों उस समय भाभी का चेहरा गुस्से से एकदम लाल था, वो मुझ पर ज़ोर से चिल्लाई और कहा कि में तुमसे कितनी बड़ी हूँ? और तुम मेरे बारे में ऐसा सोचते हो? तो में उनका गुस्सा देखकर बहुत डर गया, लेकिन में फिर भी हिम्मत करके बोला कि भाभी इसमे मेरी क्या ग़लती है? प्यार तो उम्र देखकर नहीं किया जाता, यह तो खुद होता है ना.
वो बोली कि ऐसा नहीं हो सकता और तुम अपनी पढाई पर ध्यान दो और मुझसे जाने को कहा, लेकिन में वहां पर खड़ा रहा और मैंने कहा कि अगर आप मुझे ना मिली तो में कभी भी एग्जाम में पास नहीं हो सकता और में वहां से चला गया. फिर दो दिन बाद शाम को उनका कॉल आया तो वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज मुझे भूल जाओ.
में : में आपको नहीं भूल सकता, क्योंकि में आपको चाहता हूँ.
भाभी : प्लीज अब मान भी जाओ और अपनी पढ़ाई पर ध्यान दो.
में : नहीं में आपको बिना पाए एग्जाम कभी पास नहीं कर सकता.
भाभी : प्लीज अब ऐसा मत करो.
में : अब आगे आपकी मर्ज़ी और मैंने कॉल काट दिया.
फिर कुछ देर बाद भाभी का एक मैसेज आया कि ठीक है, में तुम्हे कुछ समय में सोचकर जवाब दूंगी और फिर मैंने ठीक है लिखकर मैसेज भेज दिया और फिर में भाभी के बारे में सोचने लगा कि अब मुझे कब चूत और बूब्स के दर्शन होगे? तो दो दिन बाद भाभी ने मुझे अपने घर पर बुलाया और उन्होंने मुझसे कहा कि में सिर्फ़ तुम्हारी पढ़ाई के लिए हाँ कर रही हूँ.
में उनकी यह बात सुनकर बहुत खुश हुआ और उनको धन्यवाद बोलने लगा, तभी वो बोली कि लेकिन मेरी भी एक शर्त है, पहले तुम एग्जाम में 70% लाकर दिखाओ तो इसके आगे कुछ होगा. अब मेरा चहरा एकदम से उदास हो गया और बोला कि नहीं यह बिल्कुल गलत बात है. फिर भाभी ने कहा कि अच्छा ठीक है, अब तुम ज्यादा उदास मत हो और तुम हर रविवार को सिर्फ़ 10 मिनट मेरे बूब्स को दबा सकते हो और एक किस कर सकते हो तो में फिर से खुश हो गया और मैंने उनसे वादा किया कि में 70% लाकर जरुर दिखाऊंगा.
भाभी बोली कि ठीक है देखते है और तभी मैंने उनके दोनों बूब्स पकड़ लिए. फिर वो बोली कि नहीं यह गलत बात है जाओ और अब जमकर पढ़ाई करो और फिर में खूब दिल लगाकर पढ़ने लगा और कुछ ही दिन बाद रविवार आ गया. फिर मैंने सुबह उठते ही 9 बजे भाभी को कॉल किया कि में आ रहा हूँ तो भाभी बोली कि अभी नहीं अभी सब घर पर है, तुम 12 बजे आना, लेकिन अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था और में उनके बारे में सोच सोचकर पागल हो रहा था.
12 बज गये और में उनके घर पर पहुंच गया, भाभी मुझे देखकर मुस्कुराई और कहा कि क्यों सब्र तो बिल्कुल नहीं है. फिर मैंने कहा कि इतने दिन से तो सब्र किया है. फिर भाभी ने दरवाजा बंद किया और मैंने उन्हे अपनी और खींच लिया और दीवार की तरफ धकेल दिया और अपना हाथ दोनों बूब्स पर रखकर दबाने लगा, वाह क्या बूब्स थे. मेरे तो दोनों हाथ में नहीं आ रहे थे और मुझे ऐसा लग रहा था कि आज भाभी का सूट और ब्रा फाड़कर उन्हे आज़ाद कर दूँ और में बहुत ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा. फिर भाभी की आँखे बंद थी और वो बोली कि धीरे मेरे शेर धीरे.
दोस्तों उनके मुहं से शेर शब्द सुनकर में तो और भी जोश में आ गया और ज़ोर ज़ोर से बूब्स दबाने लगा और भाभी भी धीरे धीरे मोनिंग करने लगी, आहह्ह्ह्हह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह थोड़ा आराम से मेरे शेर आराम से आहह्ह्ह्हह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ और फिर उन्होंने मुझे धक्का दिया और कहा कि तुम्हारे दस मिनट खत्म. फिर में बोला कि अभी तो किस भी नहीं हुई? तो वो बोली कि यह तुम्हारी गलती है, तुमने की ही नहीं. फिर में बहुत उदास हो गया और जाने लगा, तभी भाभी बोली कि उदास मत हो, आजा किस भी कर ले.
में बहुत खुश हो गया और उनके होंठो को अपने होंठो में लेकर चूसने लगा, लेकिन उन्होंने मुझे जल्दी ही हटा दिया और कहा कि बस इतना ही ठीक है, इसके आगे अगली बार और फिर में जाने लगा. फिर वो मुझसे बोली कि अब घर पर जाकर ज़्यादा मुठ मत मारना, यह सब शरीर के लिए ठीक नहीं होता. फिर में घर पर आकर बहुत मन लगाकर पड़ने लगा और अगले रविवार का इंतजार करने लगा और फिर रविवार भी आ गया और फिर में भाभी के घर पर गया.
वो मुझे देखकर बोली कि आ गया शेर शिकार करने, तो में मुस्करा गया. फिर वो बोली कि देखो शेर शरमाता भी है और मैंने उन्हे अपनी बाहों में भर लिया और उनके होंठो को चूसता रहा और दोनों हाथ से उनके बूब्स दबा रहा था और ज़ोर ज़ोर से दबा रहा था. तभी भाभी ने मुझे हटाकर कहा कि थोड़ा आराम से दबाओ, में कहीं नहीं भागी जा रही.
फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक, आप तो यहीं हो, लेकिन टाईम तो भागा जा रहा है ना, तो वो हंस पड़ी और में फिर से उन्हे किस करने लगा और बूब्स को दबाने लगा और मेरा लंड टाईट हो गया. दोस्तों ऐसा करते करते दिन बीतते गए और मेरे एग्जाम हो गये और अब मेरा रिज़ल्ट आने वाला था तो रिज़ल्ट के एक दिन पहले दोपहर को में भाभी के पास गया. फिर वो बोली कि क्या बात है आज तू बड़ा उदास लग रहा है. फिर मैंने कहा कि हाँ.
भाभी : लेकिन ऐसा क्यों?
में : वो कल मेरा रिज़ल्ट आ रहा है.
भाभी : क्या इसलिए उदास है कि कहीं फेल ना हो जाए?
में : नहीं, इसलिए कि कही मेरा सपना ना टूट जाए?
भाभी : कौन सा सपना.
वही एक दिन आपके साथ सेक्स करने का सपना और हम दोनों हंस पड़े, तभी मैंने उन्हे गिफ्ट दिया तो उन्होंने खोला और उसमे देखा तो उसमे ब्रा और पेंटी थी. फिर भाभी ने कहा कि यह किसके लिए है? तो मैंने कहा कि यह आपके लिए है और अगर कल में पास हुआ तो जब हम सेक्स करेंगे, आप यह पहनना और अगर में फेल हुआ तो अपनी एक ब्रा, पेंटी मुझे दे देना तो में उसे सूंघकर आपके बदन की खुशबू लेता रहूँगा.
भाभी बोली कि तुम चिंता मत करो कल जो होगा देखा जाएगा, ज्यादा चिंता मत करो और उन्होंने मेरा एक हाथ अपने बूब्स पर रख दिए और बोला कि मेरे शेर आज तो मज़े ले लो और फिर में उनके बूब्स को बहुत ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और मैंने उनके होंठो को बहुत जमकर चूसा. फिर वो हाँफते हाँफते बोली कि धीरे मेरे शेर तुम्हे ऐसा मौका कल भी मिलेगा, उदास मत हो और में उनकी सुने बिना उनके बूब्स दबाता रहा और अगले दिन सुबह मेरा रिज़ल्ट आ गया और में 72% से पास हुआ.
में बहुत खुश हुआ और मैंने भाभी के घर पर जाकर उनसे कहा कि में 70% नहीं ला पाया. फिर उस समय भाभी किचन में आटा लगा रही थी और वो बोली कि कोई बात नहीं अगली बार फिर से मेहनत करो और पढ़ाई के साथ में सेक्स भी और वो हंसने लगी.
फिर में उनके पीछे गया और बोला कि मेरी जानेमन 70% नहीं 72% आए है और में उनकी गांड को सहलाने लगा और बूब्स दबाने लगा. फिर वो बोली कि अभी कोई देख लेगा, अभी नहीं दूर हटो और में दूर हट गया. फिर वो बोली कि सेक्स करने को मिलने की उम्मीद थी तो पढ़ाई हो गई, नहीं तो पढ़ाई का नाम भी नहीं था. फिर मैंने कहा कि यह सब आपकी मेहरबानी है, तभी मैंने पूछा कि कब शुरू करें? तो उन्होंने कहा कि सब्र करो, सब्र का फल मीठा होता है.
फिर मैंने कहा कि तो में अब तक क्या कर रहा था? तो वो हंस पड़ी और कहा कि तुम जाओ में तुम्हे शाम को कॉल करती हूँ. फिर में शाम को उसके कॉल का इंतजार करने लगा और फिर भाभी का कॉल आया तो वो बोली कि कल उनकी बेटी स्कूल जाएगी और अंकल ऑफिस जाएँगे, तो तुम 10 बजे आ जाना और तुम्हारे पास सिर्फ़ एक बजे तक का टाईम है. फिर में उनकी यह बात सुनकर बहुत खुश हुआ और भाभी से कहा कि आप बहुत अच्छी हो और उनसे कहा कि कल मेरे गिफ्ट वाले ब्रा और पेंटी पहनना.
उन्होंने कहा कि हाँ बाबा में वही पहन लूंगी, मेरे शेर अब तैयार हो जाओ. फिर में रात भर सो नहीं पाया और सुबह 9 बजे उनके पति के ऑफिस जाते ही में उनके घर पहुंच गया और भाभी मुझे देखकर कहने लगी कि तुम्हे तो बिल्कुल भी सब्र नहीं है. फिर मैंने कहा कि क्या करूं भाभी कंट्रोल ही नहीं होता? तो वो बोली कि थोड़ा इंतजार करो, मुझे अभी कुछ काम है.
फिर में उनका इंतजार करने लगा, लेकिन अब मुझसे रहा नहीं गया तो में सीधा किचन में चला गया और उनके पीछे खड़ा होकर उन्हे गले पर किस करने लगा. फिर बोली कि थोड़ा आराम से, लेकिन में अब कहाँ उनकी सुनने वाला था और में उन्हे अपनी तरफ करके लिप किस करने लगा और ज़ोर ज़ोर से बूब्स को दबाने लगा तो भाभी बोली कि धीरे मेरे शेर, आज तीन घंटे में तुम्हारी ही हूँ और में उनके पूरे चेहरे पर किस करने लगा और उनके सूट को उतारने लगा, लेकिन में नहीं उतार पा रहा था.
भाभी ने कहा कि रुको में उतारती हूँ, बेडरूम में चलो और हम बेडरूम में चले गये. फिर भाभी ने अपना सूट उतारा और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और अब भाभी ब्रा और पेंटी में थी और में पूरा नंगा था.
मेरा लंड देखकर भाभी बोली कि मेरे शेर का तो बहुत बड़ा और मोटा है और यह सुनते ही मुझसे रहा नहीं गया और में उनको किस करने लगा और बेड पर लेटा दिया और ब्रा के अंदर हाथ डालकर बूब्स दबाने लगा और में निप्पल को ज़ोर ज़ोर से दबाए जा रहा था, भाभी उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ अह्ह्हह्ह्ह्हह् उह्ह्हह्ह्ह्ह करने लगी और मैंने उनकी ब्रा को निकाल दिया और उनके बूब्स देखकर तो में एकदम दंग रह गया, एकदम गोरे और उस पर गुलाबी कलर के निप्पल और भूरे कलर के घेरे देखकर मुझसे रहा नहीं गया और में उनके बूब्स को चूसने लगा और एक बूब्स दबाने लगा, मैंने उनके निप्पल को काटा तो भाभी उईईईईइ माँ मर गई कहने लगी और ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी.
में उनकी नाभि पर किस करने लगा और उनकी चूत को पेंटी के ऊपर से रगड़ने लगा, में उनकी चूत की मदहोश कर देने वाली खुशबू को सूंघकर बहुत खुश था और मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनकी पेंटी को उतार दिया, में और उनकी चूत को देखकर दंग रह गया, उनकी क्या चूत थी यार एकदम गुलाबी और वो भी पूरी साफ और मेरी नजरें उनकी चूत से नहीं हट रही थी. तभी भाभी बोली कि क्या हुआ मेरे शेर रुक क्यों गए? में बोला कि कुछ नहीं और में उनकी चूत पर किस करने लगा और जीभ डालकर चूसने लगा और भाभी ज़ोर ज़ोर से मोनिंग कर रही थी, वो आहआह अह्ह्ह्हह्ह उईईईईई माँ मज़ा आ गया और चूस मेरे शेर और चूस और वो मेरा सर अपनी चूत में दबा रही थी.
दोस्तों वाह क्या स्वाद था उनकी चूत का, मुझे तो मज़ा आ गया. तभी भाभी बोली कि में झड़ रही हूँ और में उनका पूरा रस पी गया. फिर वो बोली कि तुमने मेरी चूत चूसकर मुझे खुश कर दिया और मेरी चूत आज किसी ने पहली बार चूसी है और तभी मैंने अपना लंड उनके मुहं में डाल दिया और बहुत देर तक चुसवाया और में भी उनके मुहं में ही झड़ गया और फिर हम एक दूसरे को किस करने लगे और हम 69 की पोज़िशन में आ गये.
फिर मैंने उनसे पूछा कि आपके यहाँ पर आईसक्रीम है क्या? तो वो बोली कि आईसक्रीम का क्या करोगे? तो मैंने कहा कि प्लीज आप बताओ ना और फिर वो बोली कि किचन के फ़्रीज़ में होगी. फिर में किचन से आईसक्रीम ले आया और उनकी नाभि पर रखकर उसे चूसने लगा. फिर भाभी बोली कि वाह क्या स्टाईल है मज़ा आ गया और ज़ोर से चूस आहआहआह उह्ह्हह्ह मेरे शेर और फिर मैंने आईसक्रीम उनकी चूत में डाली तो भाभी कांप उठी और बोली कि अहहह्ह्ह्हह्हह्ह्ह अईईईईईई.
मैंने उनकी चूत को चूसा तो वो मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी और कहने लगी कि खा जाओ मेरे शेर पूरी खा जाओ, मुझे आज चोद डालो आहआहआह आहआह ऊएऊएऊए ऊउईईईईई माँ. फिर मैंने उनको एक लिप किस किया और हम एक दूसरे के होंठ को चूस रहे थे. फिर मैंने उनकी चूत के ऊपर अपना लंड रखा तो भाभी बोली कि कंडोम पहन लो. फिर मैंने कहा कि नहीं यह मेरी पहली चुदाई है, इसलिए में ऐसे ही करूंगा. फिर भाभी बोली कि तो जो भी तुम्हे करना है करो, लेकिन अब रूको मत. फिर मैंने अपना लंड चूत पर रखकर एक जोरदार धक्का लगाया तो लंड एकदम फिसल गया.
फिर भाभी बोली कि थोड़ा धीरे मेरे शेर आराम से और उन्होंने मेरा लंड पकड़कर चूत के छेद पर रखकर कहा कि अब डालो. फिर मैंने जब धक्का मारा तो मेरा सिर्फ़ लंड का टोपा अंदर गया और भाभी चीख पड़ी, हाअह्ह्ह्हह्ह आराम से मेरे शेर और मैंने फिर एक धक्का मारा तो मेरा लंड अंदर गया और भाभी और चीखी, अहहहहह्ह्ह उईईईई मैंने और एक धक्का दिया तो मेरा पूरा लंड चूत के अंदर था और भाभी बोली कि में तो मर गई, तेरा तो सच में शेर जैसा है, अहहाहा उईईईईईई हहाऊएुउऊएउ.
में भाभी के ऊपर लेट गया और उनके होंठ को चूसने लगा और बूब्स दबाने लगा और जब भाभी की चूत का दर्द शांत हुआ तो में धक्के लगाने लगा, भाभी आहआहहह अब उह्ह्ह्ह माँ मर गई थोड़ा आराम से मेरे शेर और चोद और चोद फाड़ दे आज मेरी अहहहाहा ऊएऊएऊएऊए अहह्ह्ह्ह और तेज़ और ज़ोर से डाल और डाल और ज़ोर से अहहएआएआएआए और दस मिनट तक चोदने के बाद में भाभी के अंदर ही झड़ गया और भाभी को एक किस करके उनके पास में लेट गया और हम सो गये.
भाभी ने मुझे 12.30 बजे उठाया तो मैंने उन्हे बाहों में भर लिया और पूछा कि कैसा लगा? तो उन्होंने कहा कि इस तरह तो आज तक उनके पति ने भी नहीं चोदा, में खुश हुआ और उनको बेड पर लेटाकर किस करने लगा और बूब्स दबाने लगा तो वो बोली कि शेर अभी नहीं, अब बस बाकी बाद में मेरी बेटी स्कूल से आती होगी.
में उठा और पूछा कि क्या में अब आपको कभी भी चोद सकता हूँ? तो वो बोली कि हाँ, लेकिन जब हम अकेले हो और पढ़ाई भी करनी पड़ेगी और फिर मैंने उनको एक स्वीट लिप किस दिया और चला गया, लेकिन उस चुदाई के बाद मैंने अपनी पढ़ाई के साथ साथ भाभी को भी बहुत अच्छी तरह चोदा और हर बार मेरे अच्छे नंबर आने पर मुझे भाभी की तरह से अपनी जमकर चुदाई का गिफ्ट मिलता, जिससे हम दोनों बहुत खुश होते. फिर मैंने उनको बहुत बार चोदा और वो भी अपनी ख़ुशी से मुझसे चुदवाती, कभी बेडरूम में, तो कभी किचन में, तो कभी बाथरूम में, तो कभी छत पर और मैंने उनके घर के साथ साथ उनको मेरे घर पर भी बुलाकर चोदा.

 

भाई की गर्ल फ़्रेन्ड

भाई की गर्ल फ़्रेन्ड


प्रेषक : राजेश रायसबसे पहले मैं Mastiya के सभी पाठकों को नमस्कार करता हूँ, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ यह मेरी पहली और सच्ची कहानी है।

मेरा नाम राजेश है और मैं लखनऊ में नौकरी करता हूँ। मेरी उम्र 25 साल और लम्बाई 6 फीट है और मैं देखने में स्मार्ट हूँ। मैं लखनऊ में अकेले ही रहता हूँ।

यह घटना कुछ दिन पहले की है, मेरा दूर का भाई भी लखनऊ में ही रहता है और उसकी एक गर्लफ्रेंड है जिसके बारे में मुझे पता था। वो घर से बाहर रहकर पढ़ाई करती है।

एक दिन वह अपने गर्लफ्रेंड को लेकर मेरे घर पर आया तो मैं उसकी गर्लफ्रेंड को देखता ही रह गया।

क्या गजब का फिगर था उसका !

और वो भी मुझे देखती रही।

शायद दोनों का दिल एक दूसरे पर आ गया पर हम दोनों ने कुछ भी नहीं कहा और उस रात वे दोनों मेरे घर पर रहे। रात में वो दोनों एक कमरे में सोए थे और मैं दूसरे कमरे में !

फिर वो दोनों सुबह चले गए। मैं आपको बता दूँ कि उसकी गर्लफ्रेंड का नाम निशा है। जाते-जाते उसने मेरा फ़ोन नम्बर ले लिया। फिर हम दोनों के बीच बातें होने लगी।

पहले तो सब ऐसे ही चलता रहा, फिर हम दोनों के बीच प्यार की बातें होने लगी और अब वो कहती कि वो मेरे साथ चुदाई करना चाहती है। मैं भी यही चाहता था और हमारे बीच अब फ़ोन पर सब बातें होने लगी थी।

और एक दिन आखिर हमारी आमने-सामने मुलाकात हो ही गई और इतने दिनों की दूरी मिट ही गई। आग दोनों तरफ बराबर लगी थी बस मिलने की देरी थी। जैसा मैंने बताया कि मैं अकेले रहता हूँ तो वह दिन में ही आ गई। मैं भी ऑफिस से जल्दी आ गया था और आते ही दरवाजा बंद किया तो वो और मैं कमरे में थे।

हम दोनों बस एक दूसरे की बाहों में एसे लिपटे जैसे बरसों के प्यासे मिल रहे हों। दोनों के होंठ ऐसे जुड़ गए कि छूटने का नाम ही नहीं ले रहे थे। अब तक वो भी बहुत ज्यादा गर्म हो गई थी और इधर मेरे लंड में भी तूफान आ गया था जो अब नियन्त्रण से बाहर हो रहा था। मैंने निशा को बिस्तर पर लिटाया और उसकी चूचियों को मसलने लगा। वो भी अब अजीब अजीब आवाजें निकालने लगी थी और जोर-जोर से मुझे चूमने लगी थी।

फिर मैंने उसका टॉप और जींस निकाल दिया। अब वह सिर्फ पैंटी और ब्रा में थी। मैं पहली बार उसे इस रूप में देख रहा था। अब तो मेरे लंड अपने पूरे आकार में था, पूरा आठ इंच का हो गया था। उसने भी मेरा शर्ट और पैंट निकाल दिया। अब मैं उसकी चूचियों को मसल रहा था जो ब्रा से बाहर आना चाहती थी।

मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी।

वाह क्या चूचियाँ थी निशा की !

मैं तो पागल हुआ जा रहा था, मैं उन्हें मुँह में लेकर चूसने लगा और एक हाथ से मसलने लगा। वो भी एकदम से पागल हो गई थी, उसने मेरे अंडरवियर में हाथ डाल दिया और मेरा लंड बाहर निकाल लिया और मसलना शुरु कर दिया। अब तक उसकी दोनों चूचियाँ एकदम से लाल हो गई थी। अब मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही चूम रहा था, वो पूरी मस्ती में थी।

मैंने उसकी पैंटी भी निकाल दी। क्या नजारा था ! पहली बार किसी की बुर देख रहा था ! एक भी बाल नहीं था, एकदम चिकनी ! उसी दिन ही बनाई थी उसने ! मैं तो बस अब टूट पड़ा उसकी बिन बालों वाली बुर पर ! और चूमने लगा।

अब तो उसके मुँह से आ आह ह ही निकल रहा था। अब उसने मेरे लंड को मुँह में ले लिया था और मैं उसकी बुर को चाट रहा था। अब तक उसने बुर का पानी छोड़ दिया था, जिसे मैंने पूरा पी लिया, क्या नमकीन पानी था।

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था। मैं अपने लंड को उसकी बुर के ऊपर रगड़ने लगा। अब तो वो और जोर-जोर से कहने लगी- जल्दी करो ! मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है !

मैं उसकी जांघों के बीच बैठा, लण्ड को चूत पर रख कर एक जोरदार झटका मारा और मेरा लगभग दो इंच लंड उसके अन्दर चला गया। उसकी बुर कसी थी, उसे हल्का दर्द हो रहा था, बोली- धीरे से डालो !

मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा लिया और चूमता रहा, साथ में धीरे-धीरे लंड को भी अन्दर करता रहा। फिर एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर कर दिया वो एकदम से चिंहुक गई। फिर उसे भी मस्ती आ गई और अब तो बस पूरे कमरे में एक तूफान आ गया जो थमने का नाम नहीं ले रहा था।

फिर मैंने उसे पीछे से भी चुदाई की। पूरे 30 मिनट की चुदाई में वो दो बार झड़ चुकी थी, अब मैं भी झड़ने वाला था, मैंने उससे पूछा- कहाँ पर गिराऊँ?

तो वो बोली- अन्दर ही गिरा दो !

पर मैं कोई भी खतरा उठाना नहीं चाहता था, मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और अपने वीर्य को बाहर ही बिस्तर पर गिरा दिया। वो बड़े ध्यान से उस गिरते हुए देख रही थी।

उस पूरी रात हमने सुबह के 4 बजे तक चुदाई की और फिर हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर सो गए।

अब वह मुझसे दूर चली गई है, अब सिर्फ हमारी बातें होती हैं।

मुझे मेल करें